तनावरिलेशनशीपशादी विवाहसंबंधसलाह / मार्गदर्शन

40 की उम्र में बचपन के दोस्त का पुनर्विवाह प्रस्ताव आया है। क्या करू?

मेरा नाम रानी है। 40 की उम्र में बचपन के दोस्त का पुनर्विवाह प्रस्ताव आया है। क्या करू?

मैं अकेली रहती हूं, शादी के 2 साल में ही तलाक हो गया। नौकरी करती हु, 35000/- सैलरी है।

मेरा जो बचपन का दोस्त है उसकी पत्नी गुजर गई है, बेटी की शादी हो चुकी है। वह भी अकेला ही है।

उसकी उम्र 52 साल है। रिटायर हो गया है। जमीन खरीदकर फार्म हाउस बनाया है। जिंदगी कट रही है।

एक दिन उसने ही मुझे मजाक मजाक में शादी की बात की। मगर मुझे भी अब लग रहा है, की क्यों न

जिंदगी की नई शुरुवात की जाये? क्या इस उम्र में शादी करना सही होगा ? उसको हाँ बोलू या नहीं?

हमारी सलाह : 40 की उम्र में बचपन के दोस्त का पुनर्विवाह प्रस्ताव आया है। क्या करू?

देखिए जैसा आप बता रही हैं कि आप बिल्कुल अकेली है और आपका ध्यान रखने वाला भी कोई नहीं है।

तो आपको इस प्रस्ताव के बारे में थोड़ा समय लेकर जरूर सोच लेना चाहिए।

बेशक आपकी उम्र 40 साल की हो चुकी है परंतु अभी भी आपकी जिंदगी बाकी है।

यदि आप अपनी पूरी जिंदगी अकेले बिताना पसंद नहीं करती तो यह आपके लिए अच्छा प्रस्ताव है।

दूसरी बात कि आपके बचपन का दोस्त आप से भली भांति परिचित है।

ऐसे में आपको किसी तरह की धोखाधड़ी के बारे में चिंता करने की तो जरूरत ही नहीं है।

आपके दोस्त को भी इस समय किसी जीवन साथी की जरूरत है क्योंकि वह अपनी पत्नी को खो चुके हैं।

उनकी बेटी की भी शादी हो चुकी है और उनका कोई और बच्चा भी नहीं है।

सोच समझकर निर्णय लीजिए

परंतु यदि उनके और बच्चे होते तो शायद आप सोच विचार करके ही अपना निर्णय लेती।

मगर अब उनकी जिंदगी में आपके अलावा कोई भी नहीं आने वाला है।

तो ऐसे में आप दोनों को ही एक दूसरे का सहारा बन जाना चाहिए।

ताकि आपकी बची हुई जिंदगी में रंग भरे जा सके।

अगर आप दोनों शादी कर लेते हैं तो ना सिर्फ  आप एक दूसरे के पूरक बनेंगे।

बल्कि यदि आप अपना बच्चा प्लान करते हैं तो आपका बुढ़ापा भी आसानी से गुजरेगा।

बेशक बुढ़ापे में आप दोनों को सहारा देने के लिए अपनी संतान की जरूरत होगी।

हालांकि यदि आप सोच रहे हैं कि अब तक का समय आपने अकेले व्यतीत किया है।

या फिर आगे भी ऐसा ही चलता रहेगा तो इस मामले में आप बिल्कुल गलत है।

अकेले जीवन जीने में बहुत सारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

पुनर्विवाह कर लीजिए

एक निश्चित समय पर आकर, पति पत्नी के अलावा  जीवन का कोई सहारा नहीं रहता।

इसलिए आप इस प्रस्ताव को अपनी अच्छी किस्मत समझ कर बेझिझक स्वीकार करें।

रही बात आपकी उम्र की तो आजकल 40-50 साल की उम्र में शादी करना आम बात है।

ऐसे में अपनी उम्र का लिहाज या दुनियादारी की शर्म आपको छोड़नी ही होगी।

इस उम्र तक पहुंचने के बाद, एक व्यक्ति की समझदारी का स्तर बहुत ऊंचा हो जाता है।

जिस वजह से आप दोनों में किसी भी तरह की तकरार या रिश्ते में अलगाव की संभावना नामुमकिन होगी।

यकीन मानिए आप दोनों का रिश्ता अपनी परिपक्वता के कारण खुशियों भरा होगा।

हालांकि आपको सिर्फ बचपन के दोस्त का ध्यान रखकर ही अपना फैसला नहीं लेना है।

ऐसा जरूरी नहीं कि आपका दोस्त जैसा बचपन में था, वह आज भी वैसा ही हो।

दोस्त की जांच पड़ताल कीजिए

इसलिए थोड़ा ध्यान रख कर ही अपने दोस्त की वर्तमान जिंदगी के बारे में जांच पड़ताल कर ले।

सिर्फ अकेलेपन की वजह से भावनाओं में बहकर फैसला लेना भी सरासर गलत साबित हो सकता है।

ऐसा ना हो कि वर्तमान समय की स्थिति को जाने बिना ही आप कोई गलत फैसला कर बैठे।

अपने दोस्त की पत्नी की मृत्यु के कारणों को जाने की कोशिश भी जरूर करें।

यदि उनकी मृत्यु किसी प्राकृतिक कारणों से हुई है तो ऐसे में आपको कोई भय रखने की जरूरत नहीं है।

परंतु ऐसा हो सकता है कि आपके दोस्त की पत्नी की मृत्यु के कारण कुछ और हो।

हमारा मकसद आपको डराना नहीं है बल्कि जो आजकल की जिंदगी की सच्चाई है, उन्हीं से रूबरू करवा रहे हैं।

इसलिए आप शादी जरूर करें परंतु कुछ बातों की पड़ताल करने के बाद।

40 की उम्र में बचपन के दोस्त का पुनर्विवाह प्रस्ताव आया है। क्या करू? सलाह पसंद आया हो तो शेयर करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.