टाइम पासधार्मिकभविष्यराशीभविष्यलाईफ स्टाइलवास्तुशास्त्र

चंद्र ग्रहण 2022 | किस राशि को लाभ किसको नुकसान

चंद्र ग्रहण 2022

दोस्तों 30 अप्रैल 2022 को ही इस वर्ष का पहला सूर्य ग्रहण आया था। अब 15 दिन के अंतराल के बाद ही अगला ग्रहण अर्थात चंद्र ग्रहण 16 मई को आने वाला है। सूर्य ग्रहण के तरह ही इस बार चंद्र ग्रहण भी दो ही होंगे। सूर्य ग्रहण आंशिक था। लेकिन चंद्र ग्रहण आंशिक नहीं है। यह पूर्ण चंद्रग्रहण होने वाला है। chandragrahan 2022

चंद्र ग्रहण मुख्य रुप से पूर्णिमा के दिन ही लगता है। इस बार की वैशाख पूर्णिमा 16 मई को है। इसलिए उसी दिन ही चंद्र ग्रहण भी होने जा रहा है। आइए विस्तार से जानते हैं कि इस साल के पहले चंद्र ग्रहण के विषय में विस्तार से। चंद्र ग्रहण की संपूर्ण तिथि एवं चंद्र ग्रहण के दिन क्या-क्या करना होगा। इन सभी के विषय में हम आपको विस्तार से बताने वाले हैं।

तिथि

चंद्रग्रहण २०२२ का समय16 मई 2022 को सुबह 8 बजकर 59 मिनट से चंद्रग्रहण की अवधि शुरू होगी और ठीक 10 बजकर 23 मिनट पर चंद्र ग्रहण समाप्त होगा।

क्या 16 मई वाला चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई देगा?

जी, हां 16 मई को चंद्र ग्रहण लगने वाला है और यह चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई देगा। इसलिए इस चंद्र ग्रहण में सूतक काल को मानना बहुत जरूरी है।

भारत के अतिरिक्त क्या अन्य देशों में भी चंद्रग्रहण दिखाई देगा?

जी, हां 16 मई को जो चंद्रग्रहण आने वाला है। यह चंद्र ग्रहण ना केवल भारत में दिखाई देगा। बल्कि भारत सहित यूरोप, एशिया, अफ्रीका, उत्तर अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, हिंद महासागर, अटलांटिक, अंटार्कटिका आदि कई सारे देशों में भी दिखाई देने वाला है।

क्या आने वाले चंद्र ग्रहण से किसी राशि को लाभ पहुंचने वाला है?

इस साल के पहले चंद्र ग्रहण से 3 राशियों को बहुत सारा लाभ मिलने वाला है। उन 3 राशियों के नाम है मेष, सिंह एवं धनु राशि।

मेष राशि

आने वाले चंद्र ग्रहण से मेष राशि वाले लोगों को इस बार बहुत ज्यादा लाभ मिलने वाला है। मेष राशि वाले लोग अपने करियर के बारे में बहुत ज्यादा सोचते हैं। इस बार चंद्र ग्रहण के कारण मेष राशि की करियर से संबंधित सभी समस्याएं दूर होगी।

जो लोग व्यापार करते हैं। उन्हें चंद्रग्रहण के कारण बहुत ज्यादा लाभ प्राप्त होने वाला है। मेष राशि के लोगों को अपने जीवन साथी का पूरा सपोर्ट भी मिलेगा।

सिंह राशि

आने वाला चंद्र ग्रहण सिंह राशि के लोगों के लिए शुभ साबित होने वाला है। रोजगार के नए अवसर भी प्राप्त होंगे। बहुत दिनों से जो काम रूका हुआ था। वह सभी काम ग्रहण के शुभ प्रभाव से संभव होगा। पति-पत्नी में प्रेम पड़ेगा।

धनु राशि

मेष एवं सिंह राशि की तरह ही धनु राशि के लोगों को भी आने वाले चंद्र ग्रहण से काफी लाभ मिलेगा। कार्य क्षेत्र में प्रमोशन मिल सकता है। आपकी धन संबंधी समस्या भी हल होगी। यदि आप अविवाहित हैं। तो आप का विवाह इसी वर्ष हो सकता है।

चंद्र ग्रहण के लिए विशेष टिप्स

इस साल का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को लगने जा रहा है और यह ग्रहण पूर्ण रूप से भारत में दिखाई देने वाला है। इसलिए ग्रहण लगने के 9 घंटे पहले ही सूतक काल लग जाएगा। इसलिए सूतक काल में हर एक व्यक्ति को विशेष ध्यान रखना होगा।

सूतक काल का मतलब क्या होता है?

ग्रहण से पहले सूतक काल की बात की जाती है। सूतक काल का मतलब खराब समय से होता है। यह खराब समय प्रकृति से संबंधित होता है। सूतक काल के दौरान सावधानी बरतना चाहिए क्योंकि यह पूरा समय बुरा होता है। लोगों के साथ अनहोनी होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है।

सूतक काल ग्रहण लगने के कितने घंटे पहले लगता है?

हिंदू धर्म एवं ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूतक काल ग्रहण से पहले ही लग जाता है। यदि ग्रहण सूर्य ग्रहण हो तो 12 घंटे पहले सूतक काल का समय प्रारंभ हो जाता है। वहीं ग्रहण अगर चंद्र ग्रहण हो तो 9 घंटे पहले ही सूतक काल लग जाता है।

सूतक काल का समय कितना बुरा होता है?

सूतक काल का समय इतना बुरा होता है कि बड़े-बड़े मंदिरों का कपाट भी उस दौरान बंद कर दिया जाता हैं।

ग्रहण काल के दौरान पूजा पाठ किया जा सकता है। लेकिन ग्रहण काल से पहले जो सूतक काल लगता है। इस दौरान पूजा-पाठ बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।

तुलसी जैसे पवित्र पेड़ को भी छूने की मनाही होती है, सूतक काल के दौरान।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.