ग्रहणज्योतिषपरंपराराशीभविष्यवास्तुशास्त्र

2023 के चंद्र ग्रहण

दोस्तों, जब भी बात ग्रहण की आती है तो हमारे मन में पहला ख्याल ग्रहण से जुड़े नियमों का पालन करने की आती है क्योंकि ऐसी बहुत सारी मान्यताएं है जिसका ग्रहण में पालन करना अति आवश्यक है वरना व्यक्ति को परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है। विशेषकर गर्भवती महिलाओं को ग्रहण को लेकर खास सतर्क रहने की आवश्यकता पड़ती है।

2023 के चंद्र ग्रहण

अगर आप भी 2023 के चंद्र ग्रहण के बारे में जानकारी हासिल करना चाहते है तो हमारा  आज का यह आर्टिकल आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है क्योंकि आज हम आपको 2023 के चंद्र ग्रहण से जुड़ी जानकारियाँ बताने वाले है। 

गर्भवती महिला पर ग्रहण का असर

हर साल की ही तरह इस साल भी चन्द्र ग्रहण लगने वाला है जिसके बारे में पहले से जान लेना जरूरी है ताकि हम ग्रहण से जुड़े नियमों का पालन पूर्णतः कर सके। ग्रहण के सूतक काल में ऐसे कई नियम होते है जिसका अच्छे से पालन करना चाहिए वरना शारीरिक हानि से लेकर आर्थिक हानि तक उठानी पड़ सकती है। मुख्य रूप से गर्भवती महिलाओं पर ग्रहण का खास असर पड़ता है ।

अगर गर्भवती महिला ग्रहण से जुड़े नियमों को न माने तो महिला के साथ ही साथ उसके गर्भ में पल रहे बच्चे को भी शारीरिक नुकसान उठाना पड़ जाता है। यही कारण है कि लोग लगने वाले ग्रहण के डेट के बारे में पहले से ही जान लेना चाहते है ताकि ग्रहण का कोई दुष्प्रभाव उनकी जिंदगी में न पड़े।

चंद्रग्रहण का दुष्प्रभाव

इसके अलावा ग्रहण का प्रभाव राशि फल पर भी पड़ता है। कई राशि फल वालो पर चंद्रग्रहण का दुष्प्रभाव भी पड़ जाता है जिस कारण उन्हें आर्थिक नुकसान उठाना भी पड़ सकता है इसलिए लोग पहले ही ग्रहण के बारे में जानकर उससे होने वाले दुष्प्रभाव के कटाक्ष की तैयारी भी कर लेते है ताकि ग्रहण का कोई भी नकारात्मक प्रभाव उनके जीवन पर न पड़े। Friday 5 May 2023

हालांकि चंद्रग्रहण तो एक खगोलीय घटना है जो प्रति वर्ष घटती ही है। जहां एक ओर लोग मान्यताओं के अनुसार ग्रहण से जुड़े नियमों का पालन करते है तो वही दूसरी ओर खगोल शास्त्री इस खगोलीय घटना को एक अवसर के रूप में भी देखते है ताकि इसके जरिये ग्रहण से जुड़े तथ्यों की जानकारियां प्राप्त की जा सके और इस खगोलीय घटना के बारे में गहरा अध्ययन किया जा सके।

2023 का पहला चंद्रग्रहण

प्रति वर्ष की ही तरह साल 2023 में भी चंद्रग्रहण लगने वाला है । आपको बता दे कि इस साल दो चंद्रग्रहण लगेंगे जो कि मई और अक्टूबर महीने में लगेंगे । 2023 का पहला चंद्रग्रहण Friday, 5 May, 2023

इस साल का पहला चंद्रग्रहण 5 मई 2023 दिन शुक्रवार को लगेगा । यह चंद्रग्रहण रात 8 बजकर 45 मिंट से आरंभ होगा और अगले दिन यानी 6 मई को सुबह 01 बजकर 01 मिंट में समाप्त होगा। हर ग्रहण की ही तरह इस ग्रहण का सूतक काल  09 घण्टे पूर्व ही प्रारंभ हो जाएगा। संयोग से इस साल का प्रथम चंद्रग्रहण के दिन ही बुद्ध पूर्णिमा भी है । यह चंद्रग्रहण एक उपछाया चंद्रग्रहण होगा जो कि एशिया, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका जैसे देशों के कुछ हिस्सों में दिखेगा। chandra grahan time 5 May 2023

सूतक काल

ग्रहण लगने के सूतक काल से ही ग्रहण से जुड़े नियमों का पालन करना शुरू कर देना चाहिए जैसे ग्रहण लगने के पूर्व या समाप्त होने के बाद ही भोजन इत्यादि करें ।  घर के खाने पीने की चीजों के ऊपर तुलसी पत्ता रख दें । ग्रहण समाप्त होने के बाद घर को स्वच्छ कर स्नान करें और पूजा पाठ करें। आपके परिवार पर ग्रहण का कोई नकारात्मक प्रभाव न पड़े इसलिए ग्रहण के दौरान मंत्रोजाप करते रहना चाहिए और ईश्वर से मंगल की कामना करते रहना चाहिए।  Sutak 5 may chandra grahan 2023

2023 का दूसरा चंद्रग्रहण

साल 2023 का दूसरा चंद्रग्रहण 29 अक्टूबर 2023 यानी दिन रविवार को लगेगा। यह चंद्रग्रहण रात को 01 बजकर 06 मिंट से शुरू होगा और रात को 02 बजकर 22 मिंट में समाप्त होगा। यह साल का आखिरी चंद्रग्रहण होगा जो कि पूर्ण चंद्रग्रहण होगा। साल के इस दूसरे चंद्रग्रहण की कुल अवधि  01 घंटा, 16 मिनट और 16 सेकेंड की होगी। 2023 का दूसरा चंद्रग्रहण

जैसा कि हम सभी जानते है कि चंद्रग्रहण के दौरान कई ऐसे काम है जिसे करना वर्जित होता है जैसे चंद्रग्रहण के दौरान कोई भी शुभ कार्य नही करना चाहिए और न ही भोजन आदि ग्रहण करना चाहिए। इसके अलावा चंद्रग्रहण के समाप्त होने के बाद घर की सफाई करनी चाहिए और पूजा पाठ करना चाहिए। 


साल 2023 में कितने ग्रहण लगेंगे?

इस साल 2 चंद्रग्रहण लगेंगे। 2023 का पहला चंद्रग्रहण 5 मई 2023 दिन शुक्रवार को लगेगा । यह चंद्रग्रहण रात 8 बजकर 44 मिनट से आरंभ होगा और अगले दिन यानी 6 मई को सुबह 01 बजकर 01 मिंट में समाप्त होगा। दूसरा चंद्रग्रहण 29 अक्टूबर 2023 यानी दिन रविवार को लगेगा।

इस साल चंद्र ग्रहण कब है?

5 मई को लगेगा इस साल का पहला चंद्र ग्रहण। 4 घंटे 17 मिनट तक चलेगा उपछाया ग्रहण। ये ग्रहण भारतीय समयानुसार रात 8:44 बजे शुरू होगा।

Next ad

Related Articles

Back to top button