टेक्नोलॉजीपुरुष स्वास्थमहिला स्वास्थराजकीय

डिजिटल हेल्थ कार्ड के क्या फायदे/नुकसान हो सकते हैं?

डिजिटल हेल्थ कार्ड के क्या फायदे/नुकसान हो सकते हैं?

डिजिटल हेल्थ कार्ड के फायदे एवं नुकसान को जानने से पहले, हम आपको डिजिटल हेल्थ कार्ड के

विषय में थोड़ी सी जानकारी देना चाहते हैं।

क्या है यह डिजिटल हेल्थ कार्ड?

डिजिटल हेल्थ कार्ड आपको चिकित्सा संबंधी सभी सेवाओं का लाभ उठाने में मदद करेगा।

साथ ही सभी सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाओं का उपयोग आपको रियायती कीमतों पर करने

की अनुमति हेल्थ कार्ड देता है। यह कार्ड बीमा कवरेज का एक रूप है।

जिसके लिए एक बार आपको वार्षिक भुगतान देना है। 

आइए आप जानते हैं डिजिटल हेल्थ कार्ड के लाभ एवं नुकसान के विषय में-

डिजिटल हेल्थ कार्ड के फायदे:-

डिजिटल हेल्थ कार्ड के एक नहीं बल्कि ढेर सारे लाभ है।

इस कार्ड से खासतौर से उन लोगों को लाभ मिलेगा। जो पैसों के अभाव के कारण इलाज नहीं करवा पाते हैं। 

हेल्थ कार्ड बहुत ही अहम भूमिका निभाता है। हर उन लोगों के जीवन में, जो एक बार में ज्यादा पैसा इन्वेस्ट नहीं कर पाते हैं।

यही कारण है कि आज डिजिटल हेल्थ कार्ड। हर राज्य एवं हर शहर में केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार की ओर से लोगों को दिया जा रहा है।

हेल्थ कार्ड के माध्यम से एक बार में व्यक्ति 500000 तक का ट्रीटमेंट करवा सकता है।

कोई भी गरीब परिवार का व्यक्ति 500000 केवल इलाज के लिए खर्च कभी नहीं कर सकता है।

ऐसे में डिजिटल हेल्थ कार्ड उनके जीवन में किसी वरदान से कम नहीं है।

डिजिटल हेल्थ कार्ड में जो भी सुख सुविधाएं लोगों को दी जाती है वह बिल्कुल मुफ्त में दी जाती हैं।

डिजिटल हेल्थ कार्ड का मुख्य उद्देश्य भारत देश में स्वास्थ्य दर की अवस्था को ठीक रखना है।

भारत का हर एक नागरिक स्वस्थ रहें। उसे किसी भी तरीके की कोई असुविधा ना हो।

इसलिए डिजिटल हेल्थ कार्ड दिया जाता है।

डिजिटल हेल्थ कार्ड के नुकसान:-

डिजिटल हेल्थ कार्ड जो मुख्य रूप से सरकार के ओर से उपलब्ध कराया जा रहा है।

वह उन लोगों को नहीं मिलता है। जो गरीबी रेखा के ऊपर आते हैं।

एक परिवार से एक ही व्यक्ति के नाम पर डिजिटल हेल्थ कार्ड बनता है।

मल्टीपल अकाउंट से डिजिटल हेल्थ कार्ड बनाने पर सभी डिजिटल हेल्थ कार्ड को कैंसल कर दिया जाता है।

यदि आपने एक ही बार में 500000 तक का चिकित्सा करवा लिया है।

फिर आप दोबारा उस हेल्थ कार्ड का उपयोग नहीं कर पाएंगे।

रेनू करवाने के लिए आपको निकटवर्ती स्वास्थ्य केंद्र के ऑफिस में जाना पड़ेगा।

यदि आपके पास आवश्यक दस्तावेज नहीं होंगे तो आप डिजिटल हेल्थ कार्ड के लिए आवेदन नहीं कर पाएंगे।

भारत देश के यदि आप स्थाई निवासी नहीं है।

तो आपको डिजिटल हेल्थ कार्ड का लाभ नहीं मिलेगा।

डिजिटल हेल्थ कार्ड के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया:-

आप जिस भी राज्य में रहते हैं। उस राज्य में डिजिटल हेल्थ कार्ड की सुविधा अवश्य होगी।

आप यदि डिजिटल हेल्थ कार्ड की सुविधा उठाना चाहते हैं।

तो अपने राज्य या केंद्र सरकार की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर चेक कीजिए।

आपको सभी जानकारियां मिल जाएगी। फिर जो भी आवश्यक दस्तावेज लगेंगे।

उन सभी दस्तावेजों को स्कैन कर ऑनलाइन हीं एप्लीकेशन फॉर्म भर दीजिए।

आवेदन करने के एक-दो महीने के अंदर आपको आपका डिजिटल हेल्थ कार्ड मिल जाएगा।

दोस्तों यदि आपके पास डिजिटल हेल्थ कार्ड नहीं है। तो आज ही अपना डिजिटल हेल्थ कार्ड बनाइए।

हेल्थ कार्ड एक ऐसा कार्ड है। जो किसी भी इमरजेंसी स्वास्थ्य संबंधी चिकित्सा में, महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

डिजिटल हेल्थ कार्ड के क्या फायदे/नुकसान हो सकते हैं? लेख पसंद आया हो तो शेअर जरूर करना

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.