इतिहासमहिला स्वास्थराजकीयस्पेशल

खतरनाक महिलायें जिनके नाम से ही थर थर कांपती थी दुनिया

खतरनाक महिलायें जिनके नाम से ही थर थर कांपती थी दुनिया। उनके बारे में विस्तार से जानकारी

हमारे देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में ऐसी पांच प्रसिद्ध कुख्यात महिला हैं जिन्होंने जुर्म की

दुनिया और आतंकवाद की दुनिया में लोगों में डर और दहशत पैदा किया हुआ है आइए जानते

हैं उन पांच प्रमुख खतरनाक महिलायें के बारे में- 

ये भी पढे बदनामी से डर लगता है। मंगेतर दहेज माँगता है। मै ये शादी नहीं चाहती। – (myjivansathi.com)

खतरनाक महिलायें no 1. शबनम –

यह हमारे देश के उत्तर प्रदेश की ऐसी महिला है जिसने अपने ही परिवार के 7 लोगों को

एक साथ मौत के घाट उतार दिया है।भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि एक महिला ने

इस तरह का जघन्य अपराध किया था। उसके अपने ही परिवार के आप लोगों को रात के समय एक

साथ नशे की दवा देकर, किसी धारदार हथियार से सभी को मार दिया था। शबनम के इस अपराध के

कारण इसको फांसी की सजा दी गयी है, लेकिन अभी डेट निर्धारित नहीं हुई है। शबनम को इन हत्याओं

के लिए मथुरा जेल में फांसी दे दी जाएगी।

इसके अलावा भारत मे ही महाराष्ट्र के पुणे जेल में बंद रेणुका और सीमा ने मिलकर 42 बच्चों को एक

साथ खत्म कर दिया था। इन दोनों महिलाओं की फांसी का पूरे देश को बेसब्री से इंतजार है।

2.मैरी सुरैट –

मैरी जेनकिंस की जीवनी
जन्म मैरी एलिजाबेथ जेनकिंस
१८२० या मई १८२३
वाटरलू, मैरीलैंड , यूएसए
मृत्यु 7 जुलाई, 1865 (उम्र 42 या 45)
वाशिंगटन, डीसी , यूएस
दफन स्थानमाउंट ओलिवेट कब्रिस्तान
राष्ट्रीयताअमेरिकन
व्यवसायबोर्डिंग हाउस और सराय मालिक
गुनाह क्या है अब्राहम लिंकन की हत्या में साजिशकर्ता
आपराधिक स्थितिनिष्पादित
जीवनसाथीजॉन हैरिसन सुरत्तो​​( एम।  १८४०; मृत्यु १८६२) ​
बच्चेइसहाक (बी। १८४१; मृत्यु १९०७)
एलिजाबेथ सुज़ाना “अन्ना” (बी। १८४३; मृत्यु १९०४)
जॉन, जूनियर (बी। १८४४; मृत्यु १९१६)
आपराधिक दंडमौत से फांसी
पकड़े जाने की तिथि17 अप्रैल, 1865

यह महिला अमेरिका में जब अमेरिकी गृह युद्ध हुआ था। उसमे अपने पति की मौत के

बाद इन्होंने वाशिंगटन में एक बोर्डिंग हाउस खोल लिया था। वहां पर यह अपनी आतंकी गतिविधियों

को अंजाम देती थी। मैरी सुरैट अमेरिका के राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन की हत्या की साजिश करने में

भी शामिल थी। ये लगातार जॉन बुथ से मिलती रहती थी। इस तरह की गलत आतंकी गतिविधियों में

शामिल होने के कारण वह अमेरिका की पहली महिला फांसी की सजा पाने वाली बनी थी। 

7 जुलाई 1865 को मैरी सुरैट को फांसी की सजा दे दी गयीं।

3.सामंथा ल्यूथवेट –

यह कुख्यात महिला ब्रिटेन की आतंकवादी महिला है। इसको व्हाइट विडो के

नाम से भी जाना जाता है। अलकायदा, सोमालिया, केन्या में आतंकवादी कार्रवाई, आत्मघाती हमले,

बम विस्फोट, जगह-जगह आतंकवादी गतिविधियां करवाने में यह शामिल रही है।  सामंथा आतंकवादी

समूह अल शबाब में शामिल होने के बाद में 400 लोगों को मार दिया। सेवानिया के आतंकी अल शबाब

नेता अहमद उमर का दाया हाथ भी बन गई है। 2015 में लंदन में जब आत्मघाती हमले हुए थे उसमें

इसी का ही हाथ बताया जा रहा था।

4.एनेडिना अर्लानो फेलिक्स 

‘द बॉस’ ,  ‘द गॉड मदर’ , ‘द नार्कोमदर’ इन सभी नामों से एनीडीना अर्लानो जाना जाता है।

एनेडीना मेक्सिको के सबसे बड़े ड्रग डीलर गैंग की बॉस है। सबसे पहले ड्रग गैंग को चलाने वाले पांच

भाइयों को सलाह एनेडीना ही देती थी। साल 2000 में कुछ इस तरह के हालात बने की इस ड्रग गैंग की

बागडोर को एनेडीना अपने हाथों में ले लिया। मेक्सिको के ड्रग एनफोर्समेंट डिपार्टमेंट की रिपोर्ट अगर

मानें तो यह पूरी दुनिया की पहली महिला है,जो इतने बड़े ड्रग रैकेट को चलती है।

5. फूलन देवी 

फूलनदेवी सांसद, लोक सभा
चुनाव-क्षेत्रमिर्जापुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र
जन्म10 अगस्त 1963
मृत्यु25 जुलाई 2001 (उम्र 37)
राष्ट्रीयताभारतीय

 फूलन देवी को कुख्यात डकैत माना जाता था। फूलन देवी नीची जाति की महिला थी। कम उम्र में

उनका विवाह एक बड़े उम्र के आदमी के साथ हो गया।16 साल की उम्र में फूलन देवी डाकू की एक

गैंग में शामिल हो गई। डाकू बनने के बाद एक बार राजपूत और डाकुओं के बीच में बहुत बड़ा विवाद

हुआ इसमें फूलन देवी को अपहरण कर लिया गया तीन हफ्तों तक राजपूतों ने इसका बलात्कार किया।

अपने बलात्कार का बदला लेने के लिए राजपूत समाज के 22 लोगों को एक साथ मार दिया था।

इन हत्याओं के जुर्म में 1983 में फूलन देवी ने अपने आप को पुलिस के हवाले भी कर दिया था।

पुलिस से छूटने के बाद में उन्होंने राजनीति की तरफ अपना रुख कर लिया। दो बार लोकसभा की

मिर्जापुर से सांसद भी रही है। सन 2001 में फूलन देवी की दिल्ली में उनके सरकारी घर पर गोली

मारकर हत्या कर दी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.