आयुर्वेदआरोग्यधार्मिकमनोरंजन

रातों-रात बना सकता है आपको अमीर | शर्मीला की पूजा से दूर होता है शनि का दोष

न्याय के देवता शनि अगर क्रोधित हो जाएं। तो भगवान से लेकर आम आदमी तक सभी कांपने लगते हैं। जीवन संकटों से भर जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक पौधा शनि के प्रकोप को दूर करने का रास्ता दिखाता है। कुटिल दृष्टि से शनि की रक्षा करता है और वह वृक्ष एक शर्मीला पौधा है।

इस पेड़ की पूजा से दूर होता है शनि का दोष

नए ग्रहों में शनि महाराज को न्यायधीश का पद मिला है। इसलिए जब शनि का प्रकोप आता है तो मनुष्य को उसके अच्छे और बुरे कर्मों का पूरा फल मिल जाता है। इसलिए लोग शनि से डरते हैं। शास्त्रों में शनि को प्रसन्न करने के कई उपाय बताए गए हैं, जिनमें से एक है वृक्ष पूजा।

शर्मीला पौधा है शनि दोष का मारक

शनि का भयानक रूप भय पैदा करता है। इसकी कुटिल दृष्टि लोगों के जीवन को प्रभावित करती है। हालांकि, अश्वत्था और शर्मीली दो पेड़ हैं जो शनि से प्रभावित हैं। कहा जाता है कि इनकी पूजा करने से शनिदेव प्रसन्न होते थे। अश्वत्था के पेड़ बहुत बड़े होते हैं, इसलिए इन्हें घर के अंदर लगाना संभव नहीं है। वास्तु के अनुसार शर्मीली के पेड़ की नियमित पूजा और उसके नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाने से शनि के दुष्प्रभाव से बचाव होता है।

शर्मीला पौधे का फूल पापों से मुक्ति देता है

शर्मीला वृक्ष में अनेक देवता एक साथ रहते हैं। इसी कारण सभी यज्ञों में इस वृक्ष का प्रयोग बहुत ही शुभ माना जाता है। इसके कांटों का उपयोग नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट करने के लिए किया जाता है, जबकि  फूल, पत्ते, जड़, डंठल और रस का उपयोग शनि से संबंधित दोषों को जल्दी से दूर करने के लिए किया जाता है।

पुराणों में भी शर्मीला पेड़ का महत्व है

हिंदू धर्म में प्राकृतिक रूप से मौजूद हर चीज को एक देवी और देवता के रूप में मान्यता प्राप्त है। हिंदू धर्म में पंचतत्व के तत्व जल, अग्नि, वायु, पृथ्वी और आकाश हैं। उनकी पूरी आस्था और विश्वास के साथ पूजा की जाती है। इन पांच तत्वों की तरह इस धरती पर मौजूद पौधों की भी पूजा की जाती है। 

ऐसा माना जाता है कि पृथ्वी पर मौजूद पेड़-पौधों की पूजा करने से हमारे जीवन में बुरे ग्रहों और सितारों का प्रभाव दूर हो जाता है। वेदों और शास्त्रों में भी नवग्रह से संबंधित पेड़-पौधों का उल्लेख मिलता है।

इन्हीं पेड़ों में से एक है शर्मीला पेड़। शनिदेव का संबंध इस वृक्ष से है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार इस पौधे को बहुत ही चमत्कारी पौधा माना जाता है। इतना ही नहीं अगर आप इस पेड़ की पूजा करेंगे तो घर में कभी भी लक्ष्मी की कमी नहीं आएगी।

रोग से मुक्ति

यदि आपके परिवार में कोई लंबे समय से बीमार है। तो इस समस्या के समाधान के लिए शनिवार की शाम को किसी शर्मीले पेड़ के नीचे पत्थर या किसी अन्य धातु से बना छोटा शिवलिंग रखें। शिवलिंग के ऊपर दूध चढ़ाएं और पौराणिक तरीके से शिव की पूजा करें। फिर हाथ जोड़कर भगवान शंकर का ध्यान करें। महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करें। इसके साथ ही अगर आपके परिवार के किसी सदस्य या खुद को कोई बीमारी है तो वह दूर हो जाएगी।

समय पर शादी करने के लिए उपकारी है पेड़

कई बार लड़के और लड़कियों की शादी समय पर नहीं हो पाती है। उनका रिश्ता बनते ही टूट जाता है। ऐसी स्थिति में शर्मीला पेड़ की पूजा करने से इस समस्या का समाधान हो सकता है। आमतौर पर शादी ना करने का एक कारण यह भी होता है कि कुंडली में शनि का प्रभाव आपको शादी नहीं करने देता है। 

ऐसे में आपको शर्मीले पेड़ के पास दीपक जलाना चाहिए और शाम को लगातार 24 दिनों तक पेड़ की पूजा सिंदूर से करनी चाहिए। शर्मीले पेड़ के सामने ध्यान करते हुए अपने विवाह की कामना ज़रूर करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.