निजी सीक्रेटपरंपराराजनीतिलाईफ स्टाइलशादी विवाहसंबंध

हर पत्नी अपने पति से चाहती है ये ख़ास चीज

शादी के बाद हर औरत की जिंदगी बदल जाती है। एक ही रात में वह एक घर से किसी और की घर की शान बन जाती है। लड़कियां शादी के बाद बहुत सारे संघर्षों का सामना करती है। हर पत्नी अपने पति से चाहती है ये ख़ास चीज

शादी के बाद एक पत्नी अपने पति से क्या-क्या उम्मीदें रखती है?

यह सब कुछ अगर वह किसी के लिए करती हैं, तो वह अपने पति के लिए करती है। कारण वह शादी के बाद अपने पति के साथ ससुराल में आती है। इसलिए एक पत्नी अपने पति से बहुत सारी उम्मीदें रखती हैं। जैसे-

स्पेशल दिन में पति का साथ 

लड़कियों को सब कुछ मंजूर होता है। लेकिन यह बिल्कुल भी मंजूर नहीं होता कि उनके किसी खास दिन पर उनके पति उनके साथ नहीं होते। जैसे कि उनका जन्मदिन या उनकी शादी का सालगिरह। इन दोनों दिन ही हर पत्नी यही चाहती है कि उनका पति उनके साथ रहकर ही उनके स्पेशल दिन को सेलिब्रेट करें।

शॉपिंग करवाने खुद लेकर जाएं

औरतों को खरीदारी करने का बहुत शौक होता है। ऐसे में यदि पति औरतों को शॉपिंग करवाने ले जाते है। तो उनको और भी खुशी मिलती है। नार्मल समय में औरतें जितनी खरीदारी नहीं करती हैं। उससे डबल खरीदारी पति के साथ शॉपिंग पर जाने के बाद करती है। शॉपिंग करने से औरतों का मूड अच्छा हो जाता है। इसलिए वह अपने पति से यह उम्मीद करते हैं कि वह महीने में या हफ्ते में एक बार अपनी पत्नी को शॉपिंग करवाने ले जाएं।

ससुराल वालों की बुराई ना करें(बीवी के घरवाले की)

पति लोग अपने पत्नी के मुंह से अपने घरवालों की बुराई के बारे में नहीं सुन पाते है। कभी-कभी वह अपनी पत्नी से गुस्सा कर बैठते हैं। ठीक उसी तरह से पत्नियों को भी गुस्सा आता है। जब वह अपने पति के मुंह से  ही अपने घर वालों की बुराई सुनती है। तब उनको बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता। पति से जब महिला उम्मीद करती हैं। तो वह यह उम्मीद भी करती हैं कि उनके पति अपने ही पत्नी के ससुराल के बारे में निंदा ना करें।

भावनाओं को समझें

शादी के बाद एक औरत अपना घर-बार छोड़कर आती है। ससुराल में आने के बाद यदि वह सबसे ज्यादा किसी से घुलती-मिलती है तो वह है उनके पति। जिनसे वह अपने मन की हर बात को शेयर करना ज्यादा पसंद करती है। शेयर करने के साथ ही वह यह भी अपने पति से उम्मीद करती है कि वह उनकी भावनाओं को समझेंगे। यदि वह भावनाओं को नहीं समझेंगे तो वह अपने पत्नी को भी नहीं समझ पाएंगे। भावनाओं को ना समझने के कारण भी पति-पत्नी का रिश्ता कमजोर पड़ता है।

मुश्किल वक्त में साथ दें

अच्छे वक्त में साथ देने के लिए तो सभी कोई पास खड़े होते हैं। लेकिन जब इंसान का बुरा वक्त आता है। तब ही समझ में आता है कि कौन अपना है और कौन पराया। शादी के बाद पति-पत्नी से अच्छे कोई दोस्त नहीं होते। मुश्किल वक्त में दोनों को एक दूसरे का साथ देना चाहिए। पत्नी अपने पति से बहुत उम्मीद करती है कि उनके पति उनके बुरे वक्त में उनका साथ देंगे।हर पत्नी अपने पति से चाहती है ये ख़ास चीज

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.