धार्मिकव्रत कथा

शुक्रवार व्रत कथा – संतोषी माता व्रत कथा

शुक्रवार व्रत कथा । एक चहल-पहल वाला गाव था। वहां एक ब्राह्मण रहता था। वह बहुत गरीब था। 

एक दिन उसकी पत्नी पड़ोसी के घर गई।  और अपनी गरीबी के बारे में सबकुछ बता दिया। 

पड़ोसी ने शुक्रवार व्रत कथा सुनाई शुक्रवार को संतोषी माता का उपवास करने को कहा।

इस शुक्रवार को आप सारा दिन उपवास करो, शाम को अविवाहित लड़कि को बुलाओ। 

उसके पैर धो लो। उसे हल्दी दें। उसका ओटी भरें, चीनी डालें और उसे दूध पीने दें। 

भुने हुए बेसन का नैवेद्य करो.उसको भोजन दो और फिर तुम्हें खाना चाहिए। इसे एक साल तक ऐसे ही

जारी रखो और फिर इसे मनाया जाना चाहिए, ”। वह घर आई। मन ही मन में देवी से प्रार्थना की और

शुक्रवार को उपवास शुरू किया।

भाई का भोजन

उसी गांव में उसका भाई रहता था। उसने एक दिन में एक हजार लोगों को भोजन देना शुरू किया। 

उन्होंने सभी ग्रामीणों को आमंत्रित किया लेकिन अपनी बहन को कभी आमंत्रित नहीं किया। वह गरीब है,

उसे बुलाए जाने पर लोग हंसेंगे। अगले दिन बड़ी संख्या में ब्राह्मण और सारे लोग आ रहे हैं। भर पेट खा रहे हैं। 

बहन को लगा कि उसका भाई एक हजार लोगों को आमंत्रित कर रहा है। शायद मुझे बताना भूल गए होंगे। 

सगे भाई के घर जाने में कोई आपत्ति नहीं है। उसको ऐसा लगा। वह बच्चों को लेकर अपने भाई के घर गई

बहन का अपमान

बहुत सारे पक्वान्न बनाए गए थे ।  वह भी खाना खाने के लिये बैठ गई। बच्चे भी उसके करीब बैठ गए। 

उसका भाई सबको बड़े आग्रह से खाना परोस रहा था। जब वह बहन के करीब आया। वह गर्दन नीचे

करके बैठी थी।जैसे ही उसकी नजर बहन पर पड़ी वह चिल्लाया , “दीदी, तुम्हारे पास अच्छे कपड़े नहीं है,

कोई चरित्र नहीं है, कोई गहने और आभूषण नहीं है, हर कोई तुम पर हंसता है, इसलिए मैंने तुम्हें आमंत्रित भी नहीं किया था ।

बिना बुलाए यहाँ क्यों या गई ? ” इतना कहकर वह गुस्से से चला गया। उसने खाना खाया और बच्चों के साथ घर आ गई ।

अगले दिन बच्चे कहने लगे, “माँ के खाने के लिए चलते हैं।” बहन ने सोचा, कहीं तो हमारा भाई है। बोला तो क्या हुआ? 

भाई मुझपर नहीं बल्कि मेरी गरीबी पर नाराज है , इसलिए मुझे नाराज नहीं होना चाहिये ऐसा सोचकर वह चली गई

इस बार भी जैसे ही भाई ने देखा उस पर चिल्लाया, “भिखारी, तू एक भिखारी है। एक बार बोला तो सुनाई नहीं देता क्या ?

कल ही बोला था फिर भी अपने बच्चे को सुअर की तरह लेकर या गयी ? जरा भी शर्म कैसे नहीं आई? 

अगर तुम्हारी मनहूस शक्ल मुझे यहाँ दिखी तो , मैं तुम्हें धक्के मारकर भगा दूंगा। ” वह चुपचाप सुनती रही। 

शुक्रवार व्रत कथा

दुखी मन से खाना छोड़कर वह उठी और चली गई , देवी से प्रार्थना की। पूरे दिन उपवास किया

देवी को उस पर दया आ गई। दिन-ब-दिन खुशी के दिन दिखने लगे। ऐसा करते हुए एक साल हो गया

उसके पास बड़ा घर, गहने, धन, और सबकुछ था। उसकी गरीबी दूर हो गई थी ।

एक दिन उसने शुक्रवार व्रत का उद्दीपन करने के बारे में सोचा। उसमें सबके साथ अपने भाई को खाने पर

आमंत्रित किया। भाई उसका ऐश्वर्य देखकर हैरान रह गया । उसने अपनी बहन से कहा, “दीदी ,

कल मेरे घर खाने के लिए आओ। मना मत करना।अगर तुम कल नहीं आयी, तो मैं तुम्हारे घर कभी नहीं आऊंगा।

भाई का न्योता

अगले दिन वह जल्दी उठी और अपने आप को तैयार कर लिया। उसने गहने पहने, अच्छे कपड़े, जूते पहने,

एक जोड़ी शॉल ली और अपने भाई के घर चली गई। भाई इंतजार कर रहा था। जैसे ही वह आई,

उसने उसका हाथ पकड़ कर उसे खुद स्वागत किया , उसके पैर धोने के लिए गरम पानी दिया। 

इतने सारे खाने योग्य पक्वान्न बनाये गए । खुद की बगल में बहन की थाली सजाई ।  भाई बहन खाना खाने बैठ गये। 

बहन ने अपना शॉल उतार कर कुर्सी पर रख दि। भाई देखने लगा। फिर ताई ने अपने जेवर निकालने शुरू कर दिए। 

भाई ने सोचा, यह भारी हो गया होगा , तो निकाल रही होगी। इसके बाद वह आकर खाना खाने बैठ गई।

उसने लड्डू उठाकर जेवर पर रख दिया। जिल्बी ने उसे उठाकर शॉल पर रख दी। एक एक पदार्थ उठाकर

एक एक जेवर पर रख दिया। भाई ने पूछा, “दीदी , क्या कर रही हो?” उसने कहा, “भैया, मैं जो कर रही हूं

वह सही है। जिसे आपने असल में खाने के लिए आमंत्रित किया है , उसे खिला रही हु।

” मुझे समझ नहीं आया”, भाई ने फिर उससे कहा, “गहने खाना थोड़े ही खा सकते है ” 

भाई को सबक

तो बहन ने इसपर कहा, “यह मेरा भोजन नहीं है, यह लक्ष्मी का भोजन है। 

मैंने उसी दिन अपना भोजन किया जब तुमने मुझे धक्के मारकर निकाल दिया था।

आज तुमने अपनी बहन को आमंत्रित नहीं किया है बल्कि इन गहनों को आमंत्रित किया है।

” इतना सुन कर भाई हतप्रभ रह गया। अपनी गलती का एहसास हो गया , उसने बहन की टांगें पकड़ लीं। 

अपने अपराध के लिए माफी मांगी। बहन ने खुले दिल से माफ किया । फिर दोनों ने खाना खाया। 

दोनों ने देवी संतोषी माता को धन्यवाद दिया। भाई बहन के साथ खाना खा रहा था। वो खुश थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.