निजी सीक्रेटरहन सहनरिलेशनशीपलाईफ स्टाइलशादी विवाहसंबंधसलाह / मार्गदर्शन

पति से तलाक लेने के लिए मैं क्या करुं?

नमस्कार मैं 35 वर्ष की एक विवाहिता महिला हूं। मेरा एक 13 साल का बेटा है। मेरे पति एक सरकारी अधिकारी हैं। लेकिन उनमें एक बहुत बड़ी बुरी आदत है वह यह है कि वह रोज शराब पी कर लड़ाई झगड़ा करते हैं। पति से तलाक लेने के लिए मैं क्या करुं? पहले तो वह घर पीकर आते थे, थोड़ा तमाशा करते थे। लेकिन अब तो वह मारपीट भी करने लगे हैं। मैं 15 सालों से इन यातनाओं को भुगत रही हूं। 

मेरे माता-पिता बिरादरी में अपनी इज्जत की खातिर मुझे मायके में नहीं रखना चाहते। विवाह से पहले मैं एक सरकारी स्कूल में टीचर थी। अब मैं अपने पति से अलग हो कर दोबारा से किसी स्कूल में नौकरी करना चाहती हूं और अपने बच्चे को सही ढंग से बड़ा करना चाहती हूं। मैं जानती हूं कि मेरे पति मुझे कभी तलाक नहीं देंगे। मुझे इस से कोई फर्क नहीं पड़ता। कारण मुझे उनसे तलाक किसी भी कीमत में चाहिए ही। एक्सपर्ट कृपया सलाह दें। पति से तलाक लेने के लिए मैं क्या करुं?

पति से तलाक लेने के लिए मैं क्या करुं?

तलाक की प्रक्रिया को 4 चरणों में बांटा गया है। जो हैं – 

  1. यह  बात सुनने में भले ही अच्छी ना लगे। लेकिन अगर शादी करके व्यक्ति खुश नहीं होता है। तो ऐसा रिश्ता आखिरकार खत्म ही हो जाता है।
  2. भारत में तलाक की प्रक्रिया तलाक की याचिका दायर करने से शुरू होती है और तलाक की अंतिम डिक्री की घोषणा के साथ समाप्त होती है।
  3. याचिका दायर करना, समन की तामील, प्रतिक्रिया, परीक्षण, अंतरिम आदेश और अंतिम आदेश।
  4. तलाक कानूनी प्रक्रिया से शुरू होता है और कानूनी प्रक्रिया के साथ ही समाप्त होता है।

आखिर ये तलाक क्या है?

Talak / Talaq तलाक कानून के तहत अदालत में याचिका दायर करके कानूनी प्रक्रिया द्वारा वैवाहिक संबंध की समाप्ति है।

जब कोई अदालत तलाक का आदेश पारित करती है, तो वह पति या पत्नी के वैवाहिक अनुबंध को समाप्त कर देती है और पति और पत्नी के बीच कोई और संबंध नहीं होता है।

पति और पत्नी को अलग करने के अलावा, इसमें संपत्ति का विभाजन, संपत्ति और बच्चों की हिरासत या संरक्षकता भी शामिल है। भारत में तलाक की प्रक्रिया और कानून धर्म और धर्म के अनुसार अलग-अलग हैं।

तलाक का आधार

कानूनी, सामाजिक रूप से अनुबंधित संबंध जैसे विवाह आमतौर पर तुच्छ कारणों से भंग नहीं होते हैं। इसके पीछे गंभीर कारण हैं।

इन कारकों में व्यभिचार और व्यभिचार शामिल हैं – एक आपराधिक अपराध जहां पति-पत्नी में से एक के विवाह के बाहर दूसरे के साथ विवाहेतर यौन संबंध होते हैं।

क्रूरता

यह जानबूझकर किया गया एक कृत्य है, जब पति या पत्नी एक-दूसरे पर अत्याचार करते हैं, जिससे शरीर के विभिन्न अंगों, जीवन या मानसिक स्वास्थ्य को खतरा होता है, तो यह क्रूरता है।

इसमें भावनात्मक या शारीरिक दर्द, दुर्व्यवहार, यातना शामिल हो सकते हैं और ऐसी घटनाओं के लिए कपल अलग होने जैसे फैसले ले सकते हैं।

अलगाव

जब पति-पत्नी एक-दूसरे को जान-बूझकर बिना वापस आने का इरादा किए ही छोड़ देते हैं, तो इसे अलगाव कहा जाता है। 

मानसिक विकार

मानसिक विकार, अशांत मन, मानसिक बीमारी या इस तरह के मानसिक विकार का अनुभव जीवनसाथी में से किसी एक द्वारा किया जाता है और यह उनके वैवाहिक जीवन को असामान्य और आक्रामक बनाता है। इसके लिए तलाक का आदेश दिया जा सकता है।

तलाक की कानूनी प्रक्रिया

  • हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 19 के अनुसार, स्थानीय सीमा के भीतर जिला न्यायालय में तलाक के लिए एक याचिका दायर की जानी चाहिए, जो आम नागरिकों का कानूनी अधिकार है।
  • लेकिन इस मामले में कुछ बातों की पुष्टि होनी चाहिए। चूंकि विवाह भारतीय कानून के तहत पंजीकृत था, इसलिए दोनों पक्षों के गवाह मौजूद होंगे। 
  • तलाक के लिए दाखिल करने से पहले उनके बीच सुलह का प्रयास किया गया जाएगा और अलग होने के लिए मान्यता प्राप्त कारण बताएं जाएंगे। 
  • अगर ऐसा होता है तो पति या पत्नी किसी वकील के जरिए कोर्ट में तलाक का केस फाइल करेंगे। कोर्ट सभी सबूतों की समीक्षा करेगी और पति-पत्नी को आपस में समझौता करने के लिए 6 महीने का समय देगी।
  • ताकि इस दौरान वे उनकी समस्याओं को दूर करने का प्रयास करें। यदि इन 6 महीनों के भीतर भी कोई मेल नहीं होता है, तो अदालत तलाक के पक्ष में अंतिम डिक्री जारी करती है और अलगाव पूरा हो जाता है।

अंतिम शब्द

तलाक तब होता है जब पति और पत्नी को अपने रिश्ते को बनाए रखने की कोई उम्मीद नहीं दिखती। उथल-पुथल में एक छत के नीचे रहने से बेहतर है कि अलग होने का फैसला कर लिया जाए। तलाक के कारणों को सत्यापित करने के बाद अदालत को तलाक का नोटिस भेजने के बाद अदालत वैवाहिक विवाद को निपटाने के लिए 6 महीने का समय देती है। यदि स्थिति अभी भी समान रहती है, तो अलगाव का अंतिम आदेश जारी किया जाता है।

इस तरह से आप अपने शराबी पति से हमेशा के लिए अलग हो सकती हैं और अपने बेटे के साथ एक अच्छा जीवन व्यतीत कर सकती हैं। इस तरह अलगाव की कानूनी प्रक्रिया पूरी होती है। आशा है कि कानूनी प्रक्रिया और भारत में तलाक के कारणों को समझाने के प्रयास सफल रहे हैं।

प्रिय पाठकों पति से तलाक लेने के लिए मैं क्या करुं? पोस्ट को पढ़ना और अपनी राय देना न भूलें। तो हमें बताएं कि आप टिप्पणियों में क्या जानना चाहते हैं। हम इस बारे में बाद में जानकारी देंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Adblock Detected

Please remove adblocker