आयुर्वेदआरोग्यधार्मिकनिजी सीक्रेटपुरुष स्वास्थभ्रमणमहिला स्वास्थलाईफ स्टाइलशादी विवाहसंबंध

तमाम कोशिशों के बावजूद माँ नहीं बन पायी | क्या करू?

मै 24 साल की शादीशुदा महिला हु। मेरे पति उनके माँ बाप की इकलौती संतान है। हमारी शादी को 4 साल हो चुके है। मगर अब तक गोद नहीं भरी। मैं और मेरे पति दवा डॉक्टर करके थक गये है। इतना ही नहीं, टोटके करके भी देखें। किसी भी तरीके से बच्चा पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन हमारी हर कोशिश नाकामयाब हो जा रही हैं। ऐसी परिस्थिति में हमें क्या अपनी जांच पड़ताल करवानी चाहिए। ताकि हमें बच्चा क्यों नहीं हो रहा है। इस बारे में हमें जानकारी हासिल हो सकें। सच कहूं तो मुझे बहुत डर लग रहा है एक्सपर्ट, कारण मुझे ऐसा लग रहा है कि बच्चे ना होने की वजह मैं हूं।

हमारी सलाह : बच्चे के लिए लगातार कोशिश करने पर यदि बच्चा ना हो तो क्या करना चाहिये?

बिना सच जाने खुद पर आरोप लगाना बहुत बड़ा गुनाह होता है। आप भूल से भी ऐसा गुनाह ना करें। बच्चा बहुत सारे कारणों से भी कंसीव नहीं हो पाता है। सबसे पहले उन कारणों को आपके लिए जानना जरूरी है। फिर आप मां बनने योग्य है या नहीं या आपके पति पिता बनने के योग्य है भी या नहीं। यह भी जानना आपके लिए बहुत ज्यादा जरूरी है। इन सभी चीजों का खुलासा टेस्ट के द्वारा हो जाएगा। इसलिए टेस्ट जरूर करवाइए। आइए जानते हैं कि कौन सा टेस्ट आपके लिए जरूरी है। ताकि आपको आपकी समस्या से कुछ हद तक राहत मिल सकें।

प्री प्रेगनेंसी टेस्ट

प्री प्रेगनेंसी टेस्ट एक ऐसा टेस्ट है। जो गर्भ धारण करने से पहले महिला एवं पुरुष दोनों को ही करवाना चाहिए। इस टेस्ट के जरिए यह पता लग जाता है कि पुरुष एवं महिला दोनों माता-पिता बनने के लिए सक्षम है या नहीं। इस टेस्ट की रिपोर्ट यदि पॉजिटिव है। तो आप जरूर ही माता पिता बनेंगे। यदि टेस्ट की रिपोर्ट नेगेटिव आती है तो फिर आप माता-पिता नहीं बन पाएंगे।

गायनोलॉजिकल स्क्रीनिंग भी करवाएं

एक महिला बहुत सारे कारणों से मां नहीं बन पाती हैं। जिसका सच गायनोलॉजिकल स्क्रीनिंग से पता चल जाएगा कि आखिर क्यों महिला मां बन पाने में असमर्थ हो रही है। महिला के गर्भाशय में कोई समस्या है या नहीं। कोई सिस्ट या महामारी या अन्य किसी संक्रमित बीमारी से पीड़ित है या नहीं। इस बात का पता स्क्रीनिंग टेस्ट से चल जाएगा।

ब्लड टेस्ट जरूर करवाएं

अपना ब्लड टेस्ट मां बनने से पहले जरूर करवाएं। कारण खून की जांच के माध्यम से भी हमारे शरीर के अंदर क्या क्या रोग है। इन सभी बातों का पता खून की जांच से चल जाता है। इसलिए ब्लड टेस्ट सभी टेस्ट में से सबसे ज्यादा जरूरी है करवाना।

मूत्र परीक्षण

मूत्र की नियमित जांच से भी मूत्र मार्ग के किसी भी संक्रमण की उपस्थिति का पता चलेगा। फिर आपके मूत्र के सैंपल को कल्चर टेस्ट के लिए लैब में भेजा जाएगा। यदि आपके मूत्र में ग्लूकोज का पता चलता है, तो आपको मधुमेह की जांच के लिए ग्लूकोज़ टॉलरेंस का भी टेस्ट करवाना होगा।

प्रेग्नेंसी से पहले जांच क्यों जरूरी है?

गर्भावस्था पूर्व जांच यह सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है कि एक महिला स्वस्थ है और शारीरिक रूप से बच्चे को जन्म देने के लिए तैयार है। एक जोड़े के लिए प्री-प्रेग्नेंसी चेक-अप महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इससे महिला के गर्भधारण की संभावना बढ़ सकती है। गर्भावस्था पूर्व परीक्षण जन्म दोष, विसंगतियों या गर्भपात के जोखिम को भी कम करता है। यह पुरुषों और महिलाओं के साथ मौजूदा स्वास्थ्य समस्याओं के परिणामस्वरूप गर्भावस्था में उत्पन्न होने वाली किसी भी भविष्य की जटिलताओं को खत्म करने में मदद करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.