तनावधार्मिकनिजी सीक्रेटभविष्यवास्तुशास्त्रस्पेशल

ये स्थितिया बढ़ा सकती है पारिवारिक दिक्कतें , जानिये इसके उपाय

वास्तु शास्त्र : ये स्थितिया बढ़ा सकती है पारिवारिक दिक्कतें , जानिये इसके उपाय घर में रहेगी सुखशांति

वास्तु शास्त्र सबके जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वास्तु एक शब्द है जिसे एक देवता से

लिया गया है जिसे वास्तु का देवता या वास्तु पुरुष कहा जाता है। यह वास्तुकला का विज्ञान है।

भगवान ब्रह्मा से वास्तु की उत्पत्ति मानी जाती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर बनाने से उस घर में सुख

एवं शांति आती हैं। वास्तु शास्त्र गणना के आधार पर बता देता है कि किस स्थान पर कमरे होंगे,

किस स्थान पर रसोई होगा किस स्थान पर बाथरूम बनेंगे एवं किस स्थान पर स्टडी रूम होगा।

एक घर में जो भी होता है उन सभी चीजों के दिशा का निर्धारण वास्तु शास्त्र के अनुसार होने पर वह

घर उन्नति देता है। इसलिए वास्तु शास्त्र का बहुत महत्व है खासकर आज के समय में।

वास्तु शास्त्र : ये स्थितिया बढ़ा सकती है पारिवारिक दिक्कतें , जानिये इसके उपाय

रिश्ते के बंधन को हमेशा मजबूत रखता है –

यदि आप का घर वास्तु के अनुसार बनेगा तो आपका संबंध आपके रिश्तेदार एवं सगे संबंधियों से कभी नहीं टूटेगा।

खुशियां आती है-

वास्तु ठीक रहने से घर के लोग भी हमेशा खुश रहते है। दुख कभी वास्तु वाले घर में प्रवेश नहीं कर पाता।

पैसों का आगमन होता है-

वास्तु वाले घर में रहने से कभी भी पैसों की कमी नहीं होती है। ये स्थितिया घर में पैसों की बढ़ोतरी होती रहती हैं।

प्रकृति की ऊर्जा का सामंजस्य

वास्तु प्रकृति के शक्तिशाली ऊर्जा स्रोतों, जैसे – सूर्य, चंद्रमा, पवन, प्रकाश, तापीय, पृथ्वी, विद्युत,

चुंबकीय और ब्रह्मांडीय ऊर्जा में सामंजस्य स्थापित करता है। वास्तु के अनुरूप ये ऊर्जाएं विकास

और सतत समृद्धि के साथ वास्तु वाले घर में रहने वाले लोगों को अत्यधिक लाभ प्रदान करती हैं।

आपके लिए सरल वास्तु उपाय और टिप्स

  1. अपने घर के प्रवेश द्वार की दीवार को खाली न छोड़ें। वहां भगवान गणेश की तस्वीर या मूर्ति लगाएं।
  2. एक खाली दीवार नकारात्मक ऊर्जा का उत्सर्जन करती है।
  3. पूजा घर के लिए उत्तर-पूर्व दिशा एक शुभ दिशा है। उत्तर-पूर्व दिशा की ओर मुख करके प्रार्थना करें।
  4. दक्षिण दिशा की ओर मुख वाला शयनकक्ष आपके परिवार में अशांति को दूर करने के लिए अच्छा है।
  5. अपने जीवन में धन और समृद्धि का स्वागत करने के लिए अपना सिर दक्षिण दिशा में सोएं,
  6. जबकि पूर्व दिशा में, स्मृति शक्ति और मस्तिष्क धारण क्षमता में सुधार होगा।
  7. शयन कक्ष में या बिस्तर पर भोजन न करें। दोनों स्वास्थ्य विकार पैदा कर सकते हैं।
  8. कैक्टस जैसे कांटेदार पौधे घर में कभी न रखें। पारिवारिक दिक्कतें आती है
  9. उत्तर-पूर्व, उत्तर-पश्चिम, उत्तर, पश्चिम और पूर्व जैसी दिशाओं में अध्ययन कक्ष अच्छा होता है।
  10. पूर्व या उत्तर-पश्चिम दिशा की ओर मुख वाला स्नानघर घर के लिए अच्छा होता है।
  11. नकारात्मक ऊर्जा से छुटकारा पाने के लिए घर में कहीं भी हिंसक ग्राफिक्स के चित्रों का उपयोग नहीं करना चाहिए।

वास्तुशास्त्र

वास्तु शास्त्र भले ही जीने के लिए जरूरी न हो, लेकिन यह बेहतर और स्वस्थ जीवन के लिए मददगार है।

यह पर्यावरण का विज्ञान है जिसमें आप रहते हैं। आप जिस वातावरण में रहते हैं उसमें ऊर्जा पैदा करने

वाली ऊर्जा आपके और आपके दिमाग में निर्मित ऊर्जा को वास्तु परिभाषित करती है।

वास्तु शास्त्र के सही होने से व्यक्ति हर तरह से खुश होता है। कर्म क्षेत्र, वैवाहिक जीवन, विद्यार्थियों को भी लाभ होता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.