आयुर्वेदआरोग्यजड़ी बूटीनिजी सीक्रेटमहिला स्वास्थ

माँ बनना चाहती हु। गलत रास्ते भी अपना चुकी हु

माँ बनना चाहती हु कहीं मेरे घर में ना पता चले इसलिए मेरा नाम और पता गुप्त रखें ।

मै 32 साल की शादीशुदा महिला हु। अभीतक बच्चा नहीं हो पाया है। मेरे पति मुझसे प्यार करते है।

मगर मुझे डर लगता है। की कहीं वो दूसरी शादी ना कर लें । मेरे पड़ोसी पीठ पीछे

मुझे बांझ कहकर संबोधित करते है। शुभ काम को मुझे नहीं बुलाते है। मै दुखी हु।

सात – आठ बार मैंने गलत रास्ता भी अपनाकर देखा मगर कुछ फायदा नहीं हुआ।

क्या मै सचमुच बांझ औरत हु ? माँ बनना चाहती हु क्या कोई जड़ी बूटी है जो मुझे मातृत्व का लाभ दिला सके ?

चिंता ना करें नमिताजी । आप को बांझपन दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय बता रहें है। डॉक्टरी सलाह भी लें

कम से कम एक वर्ष तक नियमित, समयोचित और किसी गर्भ-निरोधक का उपयोग ना करते हुए सम्भोग करने पर भी

स्त्री को गर्भ नहीं ठहरे, तो यह बांझपन या बाँझपन से जुडी समस्या कहा जाता है|

विश्व स्वास्थ्य संगठन नुसार, गर्भावस्था बनाए रखना और जीवित बच्चे को जन्म ना दे पाना भी

बांझपन में ही सम्मिलित हैं|

हमारे हजारो साल पुराने आयुर्वेद में इसका इलाज संभव है|आइये देखे क्या हैं बाँझपन दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय|

infertility बाँझपन दूर करनेके आयुर्वेदिक उपाय

प्रेशर पॉइंट को दबाये


अश्वगंधा आपको माँ बना सकता है।

  • अश्वगंधा हार्मोनल संतुलन को बनाए रखने, प्रजनन अंगों के समुचित कार्यक्षमता को बढ़ावा देने में कारगर है|
  • बार-बार हुए गर्भपात के कारण तथा शिथिल-गर्भाशय को समुचित आकर में लाकर उसे स्वस्थ बनती है|
  • एक गिलास गर्म पानी में १ चम्मच अश्वगंधा चूर्ण मिलाले| इसे दिन में दो बार लें|

अनार से बांझपन दूर हो सकता है।

  • अनार गर्भाशय के रक्त प्रवाह में वृद्धि कर देता है|
  • साथ ही यह गर्भाशय की दीवारों को मोटा कर देता है|
  • जिससे गर्भपात की संभावना को कम हो जाती है| साथ ही अनार भ्रूण के स्वस्थ विकास को भी
  • बढ़ावा देता है|
  • अनार के बीज और छाल बराबर मात्रा में ले| इसका महीन चूर्ण बनाकर एयर टाइट जार में रखे|
  • दिन में दो बार १ गिलास गर्म पानी के साथ कुछ हफ्तों के लिए
  • इस मिश्रण का आधा चम्मच लें| ताजा अनार
  • या अनार का ताज़ा रस भी पी सकते हैं|

कुछ और आयुर्वेदिक उपाय

गाजर के बीजों की धुनी

गाजर के बीजों की धुनी बच्चेदानी तक चली जाये, इस प्रकार धुआ ले| धुआ बनाने के लिए गाजर के बिज

जलते हुए कोयले पर डाले| इसके साथ हररोज गाजर का रस भी पिए|


बरगद के वृक्ष की जडें

आयुर्वेद के अनुसार बरगद के वृक्ष की कोमल जडें महिलाओं के बांझपन में प्रभावी हैं|

बरगद के वृक्ष की कोमल जड़ों को कुछ दिनों के लिए धूप में सुखाले| सुख जाने के वाद इसका महीन

चूर्ण बनाले | इस चूर्ण को एक बंद डिब्बे में रख लें|

१ गिलास दूध में चूर्ण के १-२ बड़े चम्मच मिलाले| इसे तीन रातों के लिए खाली पेट माहवारी का समय खत्म होने के बाद

लगातार एक बार पि ले| पीने के बाद १घंटे तक के कुछ भी ना खाये या पिये|

कुछ महीनों के लिए ऐसा करें|

ध्यान दे: अपने मासिकधर्म के दौरान इसका प्रयोग बिलकुल ना करें|


अंकुरित गेहू

आधा को गेहू १२ घंटो तक भिगोये| फिर मोटे गिले कपडे में बंधकर २४ घंटे तक रखे| २४ घंटो बाद अंकुर आ जायेंगे|

इस अंकुरित गेहू को बिना पकाए ही खा ले| आप इसमें स्वाद के लिए गुड, किशमिश मिला सकते है|

यह पुरुषों की नपुसंकता में और स्त्रीयों के बाँझपन में रामबाण काम करता है|

आशा है आपको बांझपन दूर करने के आयुर्वेदिक इलाज की जानकारी पसंद आई होगी|

निवेदन: इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया पर जरुर शेअर करे ताकि दूसरों को भी इसका फायदा हो सके|

शायद कोई महंगी फीस की वजह से इलाज ना करा पा रहा हो और इस तकलीफ से जूझ रहा हो|

तो यह जानकारी उसे बहुत काम आ जायेगी और वह आपका एहसान जरुर मानेगा|

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.