आधुनिकआरोग्यत्योहारधार्मिक

होली के दिन किन सुरक्षा का पालन करना चाहिए?

होली भारत देश में मनाया जाने वाला एक रंगों का त्योहार है। यह त्यौहार लोगों के लिए बहुत सारी मस्ती और खुशी लेकर आता है। जहां होली पार्टी होती है वहां पर भांग और पकौड़ा, गायन और नृत्य, शरारत और रंगों से खेलना का शानदार आयोजन किया जाता है। एक ओर जहां लोगों को होली के रंगों से खेल कर खुशी मिलती है। वहीं पर कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जिन्हें होली के रंगों से एलर्जी होती है और ऐसे में उन्हें बहुत ही सावधानी के साथ रहना पड़ता है। आइए जानते हैं कि होली के दिन किस तरह से सुरक्षा का पालन करना चाहिए-

होली के दिन किन सुरक्षा का पालन करना चाहिए?

प्राकृतिक रंगों के साथ होली खेले

होली से पहले मार्केट में भिन्न-भिन्न तरीके के गुलाल एवं रंग आते हैं। साथ ही प्राकृतिक रंग मार्केट में मिलते हैं। जो चेहरे को बिल्कुल भी नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। हमेशा यही कोशिश होनी चाहिए लोगों की कि वह जब भी होली के रंग खरीदे। तो ऐसे रंग लें, जिससे उन्हें व उनके परिवार के किसी सदस्य को कोई हानि ना पहुंचे। प्राकृतिक रंग जिससे चेहरे को नुकसान नहीं पहुंचती है। यह रंग जल्दी से चेहरे सेनिकल जाते हैं।

तेल लगाएं

होली खेलने से पहलेअपने चेहरे, हाथ, पैर और त्वचा के किसी भी खुले हिस्से पर बड़ी मात्रा में मॉइस्चराइजिंग लोशन या तेल का प्रयोग करें। इससे यदि आपके शरीर पर रंग लगता भी है। तो जल्दी ही रंग उतर जाएगा।

सनस्क्रीन प्रयोग करना ना भूलें

होली के दिन अपनी त्वचा को यूवी किरणों, सनबर्न से बचाने के लिए वाटरप्रूफ सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें।

बालों की रक्षा कैसे होगी?

बाल शरीर का संवेदनशील हिस्सा है। सिर में होली के रंग गिरने के कारण बाल टूटने लगते हैं। साथ ही बाल घुंघराला और बहुत शुष्क हो जाता है। होली शुरू करने से पहले अपने सिर और बालों की तेल से मालिश करके अपने बालों को खतरनाक रसायनों, गंदगी और धूल से बचाएं और बालों पर अतिरिक्त तेल लगाएं। होली खेलने के लिए बाहर जाने से पहले टोपी पहनने की कोशिश करें। इससे होली के रंग बाल पर गिरने से भी बालों को क्षति नहीं पहुंचेगी और आपका बाल सुरक्षित रहेगा।

सनग्लास का प्रयोग करें

धूप का चश्मा पहनकर अपनी आंखों की रक्षा करें और होली खेलने के लिए बाहर जाने से पहले कॉन्टैक्ट लेंस हटा दें। किसी भी स्थिति में आंखों में रंग जाने पर तुरंत कदम उठाएं और ठंडे पानी से धो लें। अगर आपको अस्थमा और धूल से एलर्जी है। तो बाहर सूखे रंगों से होली खेलने से बचें, अपने स्वास्थ्य को पहली प्राथमिकता दें

बच्चों के शैंपू का इस्तेमाल करें

 रंग साफ करने के लिए कठोर साबुन, रसायन और शैम्पू लगाने से बचने की कोशिश करें। अपनी त्वचा के लिए माइल्ड सोप या फेस वाश जैसे- क्लीन एंड क्लियर संतूर सैंडल सोप, निविया क्रीम सॉफ्ट सोप और उसके बाद बालों के लिए कंडीशनर और उसके बाद बेबी शैम्पू का उपयोग करने का प्रयास करें।

दाग-धब्बों को हटाने के लिए मिट्टी के तेल, पेट्रोल और स्प्रिट के इस्तेमाल से बचें, क्योंकि ये त्वचा को और भी रूखा बना देंगे। होली खेलने के लिए सूती कपड़े ही पहने। इस तरह छोटे-छोटे उपाय कर होली को सुरक्षित रूप से मनाया जा सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.