आयुर्वेदगुप्त रहस्यग्रहणज्योतिषत्योहारधार्मिकलाईफ स्टाइलवास्तुशास्त्रव्रत कथा

Adhik Mas ka mahatva | अधिक मास का महत्व

ऐसा माना जाता है, कि यदि अधिक मास में कार्य किया जाता है तो उससे कुंडली के दोषों का निवारण होता है। Adhik Mas ka mahatva | अधिक मास का महत्व । हिंदू कैलेंडर में प्रत्येक तीसरे वर्ष 1 महीना प्रकट होता है। इस महीने को अधिक मास या मलमास कहा जाता है। भगवान विष्णु को समर्पित होने की वजह से इस मास को पुरुषोत्तम मास कहते हैं। 

Adhik Mas ka mahatva | अधिक मास का महत्व

हिंदू धर्म में इस माह की विशेष महत्व है। पूरे भारत में अधिक मास के समय ज्यादा पूजा-पाठ, व्रत, उपवास किए जाते हैं। आइए जानते हैं, कि अधिक मास का महत्व क्यों है।

अधिक मास की गणना

हिंदू ज्योतिष के अनुसार, भारतीय हिंदू कैलेंडर सूर्य और चंद्रमा की चाल की गणना के मुताबिक चलता है। अधिक मास में चंद्रमा की चाल की वजह से हर तीसरे वर्ष 13वा महीने आता है। यह 32 महीने 16 दिन और 8 घंटों के अंतर से बनता है। इस महीने की उत्पत्ति सूर्य और चंद्रमा के बीच के अंतर का संतुलन बनाने के लिए भी हुआ है।

यदि हम भारतीय ज्योतिष गणना पद्धति की बात करें तो प्रत्येक वर्ष 364 दिन और 6 घंटे होते हैं। जबकि चंद्रमा प्रत्येक वर्ष 354 दिनों का माना जाता है। किन्ही दो वर्षों के बीच 11 दिनों का अंतर होता है। इसी अंतर को मिटाने के लिए अतिरिक्त मास या अधिक मास की उत्पत्ति हुई है।

क्यों है अधिक मास का महत्व

ऐसा माना जाता है, बल्कि यह बात सत्य भी है कि पृथ्वी पर प्रत्येक जीव पांच महा भूतों से मिलकर बना है। जल, अग्नि, वायु, आकाश और पृथ्वी यह सभी पंचमहाभूत है। अधिक मास या मलमास में किए जाने वाले,बहुत सारे धार्मिक कार्यक्रम, चिंतन, मनन, योग और ध्यान के माध्यम से व्यक्ति, अपने शरीर में मौजूद इन पांच तत्व का संतुलन स्थापित करने की कोशिश करता है। 

अधिक मास में धार्मिक और आध्यात्मिक प्रयासों से हर व्यक्ति अपने आध्यात्मिक और भौतिक जीवन में उन्नति और निर्मलता पाने की कोशिश करता है। अधिक मास के दौरान व्यक्ति हर 3 साल में खुद को आध्यात्मिक तौर पर स्वच्छ करके नई ऊर्जा से भर जाता है। और ऐसा माना जाता है, कि यदि अधिक मास में कोई भी आध्यात्मिक कार्य किया जाता है तो उससे कुंडली के दोषों का निवारण भी होता है।

अधिक मास में क्या करना चाहिए

इस साल अधिक मास सावन के महीने में है यह 18 जुलाई से शुरू होकर 16 अगस्त तक रहेगा इस महीने में दान, पुण्य, कथा, भागवत कथा करवानी चाहिए और भगवान शिव विष्णु और कृष्ण भगवान से जुड़े यज्ञ तथा अनुष्ठान करने चाहिए। ऐसा माना जाता है कि अधिक मास में प्रत्येक दिन 33 वस्तुओं का दान देने का अपना एक अलग महत्व है। जो व्यक्ति अधिक मास में इन 33 वस्तुओं का दान करता है। उसके सभी पाप समाप्त हो जाते हैं। और उसे पुण्य मिलता है। यह पुण्य ऐसा होता है, जो कभी भी समाप्त नहीं होता।

 33 वस्तुओं में आप पढ़ने लिखने की सामग्री, खाने पीने की चीजें और रोजमर्रा में इस्तेमाल की जाने वाली चीजों का दान कर सकते हैं।

80% शादीशुदा महिलाएं प्यार क्यों ढूंढ रही हैं? (5) Chanakya Niti (8) Chanakya Niti : आपकी पत्नी सच्ची जीवनसाथी है या नहीं ऐसे करें पहचान (6) Chanakya Niti : पति-पत्नी के रिश्ते (8) Divorced (104) Gigolo Market (5) is rashi ki ladki hamesha sachcha pyar karti hai (4) jigolo market (5) live in relationship (5) Marriage (202) personal problem (296) relationship (269) tricks and tips in hindi (6) vastu shastra (5) Whatsapp (4) whatsapp cheating tricks (4) WhatsApp status (4) Whatsapp tricks (5) whatsapp web ऐसे इस्तमाल करें। (5) Whatsappपे लड़की कैसे पटाये ? (5) अनाथ आश्रम की लड़कियां शादी के लिए चाहिए (5) अनाथ आश्रम की लड़की (4) अनाथ लड़की से विवाह कैसे करें ? (4) अफेयर (5) अफेयर में सावधान कैसे रहें (4) अब वह तलाक मांग रहा है (5) अविवाहित लड़की (5) आकर्षण (6) आत्मविश्वास (6) आयुर्वेद (24) आरोग्य (49) उपाय (4) एक तलाक शुदा औरत से कौन लोग शादी करते हैं (5) एक तलाकशुदा महिला को फेसबुक पर युवक से दोस्ती करना भारी पड़ा (5) एक शादीशुदा महिला ही आपको बता सकती है वैवाहिक जिंदगी की असलियत (5) ऐसे पति से बीवी कभी नहीं लेती तलाक (7) कुंडली मिलान क्यों है जरूरी (4) कैसे ढूंढे शादी के लिए विधवा या तलाकशुदा महिला (4) क्या करूं? (6) क्या दूसरी पत्नी को पति की संपत्ति में अधिकार है? (5) क्या शादीशुदा महिला दूसरी शादी कर सकती है (4) घरबैठे पैसे कमाने के तरीके (5) घरेलू हिंसा (4) चंद्र ग्रहण 2023 (4) चाणक्य नीति (14) चाणक्य नीति : अच्छी पत्नी में होते हैं ये 3 गुण (4) चाणक्य नीति : चरित्रहीन स्त्री (9) चाणक्य नीति: पति-पत्नी के रिश्ते को मजबूत बनाती हैं ये 4 चीजें (5) जानें क्या हैं एकतरफा तलाक (4) जिगोलो धंधे का सच (4) जिगोलो मार्केट (4) तलाक (11) तलाक की नौबत कभी नहीं आएगी (7) तलाक के खिलाफ अपील नहीं तो दूसरी शादी मान्य (4) तलाक के बाद दूसरी शादी remarriage after divorce (5) तलाक लू या नहीं ? (8) तलाक लेना चाहती हु। (5) तलाकशुदा महिला (8) तलाकशुदा महिला को दूसरी शादी करनी चाहिए या नहीं? (5) तलाकशुदा महिला से की फेसबुक के जरिये दोस्ती (4) तलाकशुदा महिला से दोस्ती (5) तलाकशुदा महिला से दोस्ती कैसे करें? (4) दोस्त की पत्नी (4) धार्मिक (6) निर्जला एकादशी का महत्व (4) पति को अपना कैसे बनाये (6) पति को अपना बनाने का तरीका (17) पति ने धोखा दिया (9) पति पत्नी का शक कैसे दूर करें? (6) पतिपत्नीमें सुसंवाद कैसे बनाये (10) पति शक करता है (4) पति से तलाक लेना चाहिये ? (8) पति ही धोखेबाज निकला (4) पत्नी पर शक करने के नुकसान (4) प्यार में धोखा देने वाले (7) बेडरूम के बारे में वास्तुशास्त्र (4) बॉयफ्रेंड (4) भाभी के अफेयर (4) मकर राशिफल वाली लड़कियां ऐसी होती है। (4) महाभारत (8) महिलाओं के लिए online पैसे कमाने के तरीके (4) महिलाओं को पैसे कमाने के तरीके (4) मांगलिक लड़की ऐसी होती है (4) मै तलाकशुदा महिला हु (4) रिलेशनशीप (237) रिश्ता (6) वास्तुशास्त्र (7) विधवा महिला को समाज में किन मुसीबतों का सामना करना पड़ता है? (4) वृश्चिक राशिफल वाली लड़कियों को कैसे पटाएं? (4) वृषभ राशि की लड़कियां प्यार के मामले में ऐसी होती है (4) शादी करके फस गई (4) शादी करू या नहीं ? (5) शादी के बाद (7) शादीशुदा महिला (4) शादीशुदा महिला को इंप्रेस करने के तरीके (4) शादी से पहले कुंडली मिलान (4) समस्या समाधान (96) सलाह (4) सलाह / मार्गदर्शन (187) सुरक्षा (6)

Next ad

Related Articles

Back to top button