धार्मिकभविष्यवास्तुशास्त्रस्पेशल

दक्षिणमुखी घर अच्छा होता या नहीं ? Is a south facing house Bad luck?

एक घर तलाश कर रहे है। एक घर हमें पसंद आया है। दक्षिणमुखी घर अच्छा होता या नहीं ?

मगर कुछ रिश्तेदार कहते है, की दक्षिणमुखी घर अच्छा नहीं होता, बेचनेवाला जब उस घर में सुखी

नहीं हुआ तो तुम उस घर को खरीदकर खुश कैसे हो सकती हो ? ये घर न खरीदने की सलाह देते

है। कुछ लोग कहते है, की अगर ऐसा ही होता तो लोग दक्षिणमुखी घर बनाते ही नहीं। बड़े बड़े बिल्डर

वास्तुशास्त्र का बड़ा खयाल रखते है। वो दक्षिणमुखी क्यों बनाते है ? ये भी बात सही लगती है। कृपया

सही राह दिखाए। क्या मुझे दक्षिणमुखी घर खरीदना चाहिये या नहीं ?

हमारी सलाह : दक्षिणमुखी घर अच्छा होता या नहीं ?

आमतौर पर घर में जाने या घर खरीदने से पहले हम यह जरूर देखते है कि घर वास्तु शास्त्र

के अनुसार है या नहीं। क्‍योंकि बहुत से लोग मानते हैं कि जो घर वास्तुशास्त्र के अनुसार नहीं

बना है, ऐसे घर में धन का प्रवाह कम होगा और दुर्भाग्य भी आएगा। या कोई अनहोनी होगी।

उनमें से कुछ यह भी देखेंगे कि घर का दरवाजा किस दिशा में है। पूर्व और उत्तर को भी राशि

का घर माना जाता है। बहुत लोग दक्षिण दिशा वाला घर लेने से डरते हैं इसका मुख्य कारण

यह है कि दिशा यम की मानी गई है । यही कारण है कि कई लोग दक्षिणमुखी घर को

अपवित्र मानते हैं। लेकिन अगर घर उचित वास्तु शास्त्र के अनुसार स्थित है, तो कोई समस्या नहीं है।

ये भी पढे : तरक्की और धन-समृद्धि के लिए वास्तुशास्त्र का महत्व – My Jivansathi

कई लोगों को ये तथ्य मालूम नहीं है

बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि कई बड़े व्यवसायियों के घर और कारखाने दक्षिण की ओर हैं। इसका कारण

यह है कि दक्षिणमुखी घर सही वास्तु शास्त्र में स्थित होता है। इसलिए यदि आप दक्षिण दिशा में घर पर हैं, तो घर

पर धन और स्वास्थ्य में सुधार के लिए नीचे दिए गए कुछ वास्तु सुझावों को पढ़ें और उनका पालन करें।

कुछ महत्वपूर्ण टिप्स दक्षिणमुखी घर अच्छा होता या नहीं

वास्तु शास्त्र के अनुसार, दक्षिणमुखी घर की रसोई दक्षिण पूर्व की ओर मुख करके सबसे अच्छी स्थिति में होती है।

अन्यथा इसे उत्तर-पश्चिम दिशा में रखना चाहिए। इस प्रकार घर बेहतर और पवित्र होगा।

दक्षिणमुखी घर में शयनकक्ष दक्षिण-पश्चिम की ओर होना बेहतर है। इस दिशा में शयनकक्ष स्थित होने पर ही अत्यधिक दक्षिण की ओर के घर को और भी बेहतर बनाने के लिए वास्तु शास्त्र के अनुसार दक्षिण की ओर की दीवार उत्तर की ओर की दीवार से ऊंची और घनी होनी चाहिए। इस प्रकार दक्षिण दिशा के घर का वास्तविक लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

दक्षिण दिशा के घर में कार का सेट, बगीचा, सेप्टिक टैंक आदि उस घर के दक्षिण-पश्चिम दिशा में स्थित होना चाहिए। मुख्य रूप से उत्तर की ओर घर के दक्षिण की ओर से अधिक खाली होना चाहिए।

यह भी जान लें की दक्षिण द्वार वाले घर में कुएं का कौन सा किनारा होना चाहिए? घर की दक्षिण दिशा में अनिवार्य कुएं, तालाब आदि नहीं बनवाने चाहिए।

दक्षिण की ओर दरवाजे वाले घर में, उत्तर पूर्व दिशा में पेड़ लगाने से बचें। इसी तरह ईशान कोण में सीढ़ियां नहीं लगानी चाहिए। तो इसमें बहुत सावधान रहें।

कौन सी दिशा बेहतर है?

  1. रसोई – दक्षिण पूर्व, उत्तर पश्चिम
  2. प्रार्थना कक्ष – पूर्वोत्तर, पश्चिम, पूर्व
  3. शयनकक्ष – दक्षिण पश्चिम, दक्षिण, पश्चिम
  4. शौचालय – दक्षिणपूर्व

ध्यान दें दक्षिणमुखी घर के निवासियों को पश्चिम दरवाजे वाले घर में रहने वालों के साथ नहीं जुड़ा होना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.