इतिहासज्योतिषदुनियाधार्मिक

सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

ग्रहण तब होता है जब सूर्य और चंद्रमा के बीच में पृथ्वी आ जाती है या जब चंद्रमा पूर्व सूर्य के बीच आ जाता है। जहां चंद्र ग्रहण का संबंध है, यह तब होता है जब चंद्रमा पृथ्वी की छाया में चला जाता है, और बाद वाला या तो पूरी तरह से या आंशिक रूप से प्रत्यक्ष सूर्य के प्रकाश को पूर्व तक पहुंचने से रोकता है। प्राचीन काल में जब प्राकृतिक घटना घटती थी तो लोग इसे समझ नहीं पाते थे और विभिन्न मान्यताओं के साथ सामने आते थे।

सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व क्या है?

सूर्य और चंद्र ग्रहण एक बड़ी ही अजीब घटना है। वैज्ञानिक और ज्योतिषीय दृष्टि से इसका खुलकर विशेष महत्व है। वैज्ञानिक रूप से भी ग्रहण एक अनोखी खगोलीय घटना ही है। जबकि धार्मिक और ज्योतिष नजरिए से ग्रहण की घटना व्यक्ति के जीवन पर विशेष प्रभाव डालती है। ज्योतिष मान्यताओं के अनुसार ग्रहण को अशुभ ही माना गया है। 16 मई को चंद्र ग्रहण लगने वाला है। आइए जानते हैं ग्रहण का वैज्ञानिक और पौराणिक महत्व।

कैसे लगता है सूर्य और चंद्र ग्रहण

वैज्ञानिक आंखे

वैज्ञानिक तर्क को एक समस्या-समाधान प्रक्रिया के रूप में परिभाषित किया गया है। जिसमें सामग्री, प्रक्रियात्मक और ज्ञान-मीमांसा ज्ञान के संबंध में महत्वपूर्ण सोच शामिल है। वैज्ञानिक तर्क के अध्ययन के लिए एक विशिष्ट दृष्टिकोण ने पूरे चिकित्सा शिक्षा में इस संज्ञानात्मक कौशल के विकास पर ध्यान केंद्रित किया है।

विज्ञान के अनुसार पृथ्वी ही सूर्य की परिक्रमा करती है। जबकि चंद्रमा पृथ्वी के चारो ओर घूमती है। पृथ्वी और चंद्रमा घूमते-घूमते एक समय पर ऐसे स्थान पर आ जाते हैं जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा तीनो एक सीध में रहते हैं। जब पृथ्वी चक्कर काटकर सूर्य व चंद्रमा के बीच में आ जाती है। चंद्रमा की इस स्थिति में पृथ्वी की ओट में ग्रहण पूरी तरह छिप जाता है और उस पर सूर्य की रोशनी नहीं पड़ पाती है। इसे ही चंद्र ग्रहण कहते है। वहीं जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच में आ जाती है और वह सूर्य को ढ़क लेता है तो इसे सूर्य ग्रहण कहते है।

ग्रहण की धार्मिक मान्यताएं

पौराणिक मान्यता के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि जब समुद्र मंथन चल रहा था, उस दौरान देवताओं और दानवों के बीच लड़ाई शुरू हो गई थी। अमृत पान के लिए विवाद पैदा शुरू जब हुआ। उस दौरान उन विवादों को  सुलझाने के लिए भगवान विष्णु ने मोहिनी का रूप धारण कर लिया था। 

भगवान विष्णु के मोहिनी अवतार को देखकर सभी देवता और दानव देखकर काफी मोहित हो उठे थे। तभी भगवान विष्णु ने देवताओं और दानवों को अलग-अलग बिठाने का निर्णय लिया और दोनों को अलग बिठा दिया। लेकिन तभी एक चालाकअसुर को भगवान विष्णु की इस चाल पर शक पैदा हो गया। वह असुर छल से देवताओं की लाइन में आकर बैठ गया और अमृत पान करने लगा।

सूर्य, चंद्रमा और दानव, राहु

हिंदू पौराणिक कथाओं में ग्रहण की कहानी समुद्र मंथन से मिलती है, जैसा कि भागवत और विष्णु पुराण दोनों में वर्णित है। अमृत ​​या अमृत के समुद्र से मंथन के बाद, देवों ने अप्सरा मोहिनी का इस्तेमाल असुरों को उसके हिस्से से बाहर निकालने के लिए किया। असुरों में से एक, स्वरभानु ने खुद को एक देव के रूप में प्रच्छन्न किया, और अमृत पीने के लिए सूर्य और चंद्रमा के बीच बैठ गया।

चंद्र ग्रहण के दौरान बिल्कुल ना करें

तेल न लगाएं। इस दौरान भोजन करना सही नहीं होता है। मत सोइये। पेड़ के पत्ते या फूल न तोड़ें। कोई भी शुभ कार्य ना करें।

चंद्र ग्रहण के दौरान क्या करें

भगवान के नाम का जाप करें। गुरु मंत्र या महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करें। गायों या पक्षियों को हरा भोजन दें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.