ज्योतिषधार्मिकभविष्यभ्रमणराशीभविष्यलाईफ स्टाइलवास्तुशास्त्र

महिलायें बनती है खतरनाक जब होती है मंगल की यह अशुभ युति

कोष्ठी में मंगल की शुभ स्थिति व्यक्ति को बहुत सफल बनाती है। वहीं फिर से इस ग्रह की खराब स्थिति व्यक्ति से सब कुछ छीन सकती है। मंगल के कई शुभ और अशुभ योग हैं।

मंगल की यह अशुभ युति कम कर देती है मन की शक्ति – अभाव, समाधान?

मंगल का प्रथम अशुभ योग

जब मंगल और राहु एक साथ हों तो अंगारक योग बनता है। अक्सर यह जोड़ बड़ी दुर्घटनाओं का कारण बनता है। इससे लोगों को सर्जरी और खून से जुड़ी गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अंगारक योग मानव स्वभाव को अत्यंत क्रूर और नकारात्मक बनाता है। महिलायें बनती है खतरनाक जब होती है मंगल की यह अशुभ युति

अंगारक योग से बचने के उपाय

अंगारक योग के कारण मंगलवार का व्रत करना शुभ रहेगा।

मंगलवार का व्रत करने के साथ ही भगवान शिव के पुत्र कुमार कार्तिकेय की पूजा करें।

मंगल का दूसरा अशुभ योग

अंगारक योग के बाद मंगल दोष दूसरा अशुभ योग है। यह व्यक्ति के व्यक्तित्व और रिश्तों को नाजुक बना देता है। यदि मंगल पहले, चौथे, सातवें, आठवें और बारहवें भाव में हो तो मंगल दोष योग बनता है।

इस योग में जन्म लेने वाले व्यक्ति को मांगलिक कहा जाता है। कुंडली में यह स्थिति वैवाहिक संबंधों के लिए अत्यधिक संवेदनशील मानी जाती है।

कमजोर मंगल का उपाय

नीच मंगल के अशुभ योग से बचने के लिए तांबा धारण करना शुभ होता है। इस योग में गुड़ और काली मिर्च खाने से विशेष लाभ मिलेगा। अशुभ मंगल को शुभ बनाने के लिए करें ये उपाय

मंगल का चौथा अशुभ योग

मंगल का एक और अशुभ योग है, जो बहुत ही खतरनाक है। इसे शनि मंगल (अग्नि योग) कहा जाता है। इससे व्यक्ति के जीवन में बड़ी और घातक घटनाओं का योग बनता है।

ज्योतिष में शनि को वायु और मंगल को अग्नि माना गया है।

जिन लोगों के घर में शनि मंगल (अग्नि योग) है, उन्हें हथियारों, विमान दुर्घटनाओं और बड़ी दुर्घटनाओं से सावधान रहना चाहिए। हालांकि यह योग कई बार बड़ी सफलता भी देता है।

शनि मंगल उपाय (अग्नि योग)

शनि मंगल (अग्नि योग) दोष के प्रभाव को कम करने के लिए हर सुबह माता-पिता को स्पर्श करें।

प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को सुंदरकाण्ड का पाठ करने से इस योग का प्रभाव कम होगा।

मंगल का पहला शुभ योग

मंगल की शुभ युति से भाग्य चमकता है। लक्ष्मी योग मंगल का प्रथम शुभ योग है।

चंद्रमा और मंगल की युति से लक्ष्मी योग बनता है।

यह योग व्यक्ति को धनवान बनाता है।

जिनकी कोष्ठी में लक्ष्मी योग हो उन्हें नियमित रूप से दान देना चाहिए।

मंगल का दूसरा शुभ योग

मंगल से बनने वाले पंच महापुरुष योग को रूचक योग कहते हैं।

जब मंगल मेष, वृश्चिक या मकर राशि में मजबूत स्थिति में होता है तो रुचक योग बनता है।

यह योग व्यक्ति को राजा, भूमि के स्वामी, सेना प्रमुख और प्रशासक जैसे महान पद प्रदान करता है।

अगर ऐसा है तो उन्हें कमजोरों और गरीबों की मदद करनी चाहिए।

मंगल दोष के कई दुष्परिणाम हैं जो किसी व्यक्ति पर तब पड़ते हैं जब मंगल ग्रह निम्नलिखित छह घरों में बैठा हो:

मंगल दोष के दुष्परिणाम

 मंगल यदि प्रथम भाव में हो तो विवाह में कलह और हिंसा हो सकती है। जब मंगल दूसरे भाव में बैठता है तो यह पूरे परिवार को प्रभावित करता है जिससे विवाह में कलह और पेशेवर जीवन में बाधा उत्पन्न होती है।जब मंगल ग्रह चतुर्थ भाव में विराजमान हो तो जातक पेशेवर मोर्चे पर नौकरी बदलने में असफल हो जाता है। सप्तम भाव में होने पर मांगलिक के भीतर की अतिरिक्त ऊर्जा उसे क्रोधी बनाती है। 

साथ ही, परिवार के सदस्यों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध असंभव है, जब मंगल सप्तम भाव में होता है, तो भीतर की अतिरिक्त ऊर्जा व्यक्ति को क्रोधी बनाती है। व्यक्ति के दबंग स्वभाव के कारण परिवार के सदस्यों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध लगभग असंभव है।

जब मंगल अष्टम भाव में अपना घर बनाता है, बड़ों से विमुख होकर जातक को पैतृक संपत्ति का नुकसान होता। जब मंगल ग्रह दशम भाव में प्रवेश करता है तो जातक को मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है और शत्रु होने के अलावा आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.