ज्योतिषधार्मिकभविष्यराशीभविष्य

शनि बदल चुके हैं अपनी चाल, इन महिलाओं को रहना होगा सावधान

वैदिक ज्योतिष के अनुसार शनि सर्वश्रेष्ठ ग्रह है। इस महीने में कर्मों के दाता शनि एक बार फिर अपनी प्रिय राशि मकर में प्रवेश कर रहे हैं। 4 जून की मध्यरात्रि से ही शनि वक्री थे। इस बार 23 अक्टूबर को सुबह 9:38 बजे वे मार्गी होगी। उसके बाद 17 जनवरी को शाम 6:02 बजे शनि कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे। इसके फलस्वरूप कुछ राशियों के जीवन में कलह बढ़ेगी तो कुछ को अच्छे परिणाम मिलेंगे। मकर राशि के जातकों के जीवन में शनि के गोचर का मिलाजुला प्रभाव दिखाई देगा। तो आइए जानें कैसे शनि अपने पसंदीदा मकर राशि में फिर से प्रवेश करेगा।

मेष राशि 

शनि मेष राशि के दशम यानि कार्यक्षेत्र में गोचर करेंगे। इस वजह से मेष राशि वाले लोगों के जीवन में शनि का प्रभाव अप्रत्याशित रूप ऊपर नीचे होता रहेगा। आपके काम और व्यापार में मंदी आ सकती है। लेकिन इसके बावजूद भी आपके कार्य और व्यवसाय में लाभ का मार्ग विस्तृत होगा। मेष राशि के जातकों पर शनि के परिवर्तन का कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा। लेकिन फिर भी उच्चाधिकारियों से संबंध खराब ना होने दें। यदि आप इस समय नौकरी बदलने की कोशिश कर रहे हैं। तो यह समय अनुकूल है। अगर आपने पहले किसी को पैसा दे रखा है तो वह पैसा आपको वापस मिल जाएगा।

वृषभ राशि 

नौवें यानि भाग्य स्थान पर शनि का गोचर वृषभ राशि पर होगा। इस समय शनि के प्रभाव में वृष राशि के जातकों की सफलता की गति धीमी हो जाएगी। वृषभ राशि के जातकों की रुचि धर्म और अध्यात्म में अधिक होगी। यदि आप किसी विदेशी कंपनी में नौकरी या नागरिकता प्राप्त करने का प्रयास कर रहे हैं, तो आपको सफलता मिलेगी। आपके निर्णय और कार्य की सराहना की जाएगी। वृष राशि के जातक अपनी योजनाओं को गुप्त रखने पर सफलता प्राप्त कर सकते हैं। परिवार के वरिष्ठ सदस्यों से मतभेद ना बढ़ने दें।

मिथुन राशि

इस राशि के आठवें भाव में शनि का गोचर मिथुन राशि के जातकों के जीवन में कठिन चुनौतियां लेकर आएगा। ऐसे में आपको अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने की सलाह दी जाती है। किसी भी विवादित मामले को कोर्ट के बाहर सुलझाना ही समझदारी होगी। ऑफिस का काम खत्म करके सीधे घर जाएं। पैतृक संपत्ति को लेकर विवाद होगा। अगर आप अपनी जिद और भावनाओं को नियंत्रण में रखकर काम करेंगे तो आपको सफलता मिल सकती है। समय चुनौतीपूर्ण 

 है, इसलिए जो भी कार्य करें सोच-समझकर कार्य करें।

कर्क राशि 

राशि की सातवीं राशि शनि मिले-जुले फल देगा। काम और व्यापार के लिए समय अपेक्षाकृत अच्छा है। विवाह में देरी हो सकती है। कर्क राशि के तहत पैदा हुए लोगों को इस समय साझेदारी व्यवसाय करने से बचना चाहिए। केंद्र या राज्य सरकार के विभाग में अगर कोई काम लंबे समय से अटका हुआ है। तो वह इस समय पूरा हो सकता है। आपके रिश्तेदार आपको छोटा बनाने की कोशिश करेंगे, इसलिए सावधान रहें।

सिंह राशि 

शनि सिंह राशि के छठे भाव यानि शत्रु में गोचर करेगा, जो इस राशि के जातकों को अच्छे परिणाम देगा। आपके गुप्त शत्रु परास्त होंगे। अगर कोर्ट में केस चल रहा है। तो फैसला आपके पक्ष में आ सकता है। लेकिन स्वास्थ्य के प्रति अधिक सावधान रहें। आवेगी निर्णय लेने से नुकसान हो सकता है। मामा के घर के रिश्ते को टूटने ना दें। यात्रा लाभ से जुड़ी है। सिंह जातक यदि विदेश यात्रा का प्रयास करना चाहता है तो उसे उसमें भी सफलता प्राप्त होगी।

कन्या राशि 

इस राशि के पंचम स्थान अर्थात विद्या में आकर शनि बैठेगा। ऐसे में विद्यार्थियों और प्रतिस्पर्धियों को चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। इसलिए अच्छे परिणाम के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी। प्रेम के प्रति उदासीनता रहेगी। काम पर ध्यान दें, यही आपके लिए अच्छा है। वरिष्ठों से संबंध प्रगाढ़ होंगे। संतान संबंधी कारणों से चिंता बढ़ेगी। नवविवाहितों के जीवन में खुशियां आएंगी।

तुला राशि 

ज्योतिष गणना के अनुसार वक्री शनि का राशि के चतुर्थ यानि सुख स्थान में गोचर का प्रभाव अप्रत्याशित परिणाम देगा। तुला राशि के जातकों को सफलता की राह में कोई बाधा नहीं होगी। हालांकि इस राशि के जातकों को पारिवारिक कलह और मानसिक उथल-पुथल का सामना करना पड़ेगा। तुला राशि के जातकों को मित्रों और रिश्तेदारों से अप्रिय समाचार मिलेगा। माता-पिता अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंतित रहेंगे। इसमें जमीन, संपत्ति और यहां तक ​​कि कार की खरीद भी शामिल है।

वृश्चिक राशि 

राशि के तीसरे भाव में शनि, वृश्चिक राशि के जातकों को जीवन शक्ति से परिपूर्ण बना देगा। कोई भी निर्णय लेने, काम करने और व्यवसाय शुरू करने में आपको सफलता मिलेगी। इस अवधि के दौरान नौकरी या स्थान बदलने का प्रयास करना अच्छा परिणाम देगा। वृश्चिक राशि वाले धार्मिक कार्यों में भाग लेंगे। विदेशी कंपनियों में सेवा या नागरिकता के प्रयासों के परिणामस्वरूप आपको सफलता मिलेगी।

मकर राशि 

इस राशि के जातकों के जीवन में मिलेजुले परिणाम होंगे। यदि आप इस समय कोई व्यावसायिक निर्णय लेना चाहते हैं तो मकर राशि वालों को इसमें सफलता मिलेगी। आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। केंद्र या राज्य सरकार के विभाग में अगर कोई काम पेंडिंग है तो उसे भी पूरा किया जाएगा। किसी भी प्रकार की सरकारी नौकरी के आवेदन के लिए समय अनुकूल है। धर्म और अध्यात्म में रुचि बढ़ेगी। अगर आप चुनाव से जुड़े फैसले लेते हैं तो उसमें भी आपको सफलता मिलेगी।

इस राशि में शनि वक्र अवस्था में प्रवेश कर रहा है।

कुंभ राशि 

शनि इस राशि के बारहवें भाव में गोचर करेगा, जो कि कुंभ राशि के जातकों के लिए बहुत शुभ नहीं है। इस समय आपको आर्थिक नुकसान हो सकता है। आप सरकार के साथ लेन-देन संबंधी विवाद में शामिल हो सकते हैं। विवादित मामले को कोर्ट में न जाने दें, पहले ही निपटा लें। अधिक खर्च करने से आर्थिक परेशानी हो सकती है। सेहत का ध्यान रखें। गुप्त शत्रुओं की संख्या में वृद्धि होगी। लेकिन वे आपको नुकसान नहीं पहुंचा सकते।

मीन राशि

ग्यारहवें भाव में शनि पर वक्र दिखाई देगा। यह लाभ का स्थान है। इससे आय के स्रोत में वृद्धि होगी, लेकिन इससे लागत भी बढ़ेगी। इस दौरान पैतृक संपत्ति से जुड़े विवाद सुलझ सकते हैं। घर या कार खरीदने का सही समय है। परिवार के बड़े सदस्यों या बड़े भाई-बहनों के साथ असहमति को बढ़ने ना दें। संतान को लेकर चिंता परेशान कर सकती है। प्रेम के प्रति उदासीनता रहेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.