पुरुष स्वास्थमहिला स्वास्थरिलेशनशीपलाईफ स्टाइलशादी विवाहसंबंध

लिव-इन रिलेशनशिप के फायदे 

आजकल के आधुनिक समय में, लिव इन रिलेशनशिप का प्रचलन तीव्र गति से बढ़ रहा है। खास तौर पर युवाओं में, लिव इन रिलेशनशिप के लिए उत्सुकता रहती है। बेशक भारतीय परंपरा के अनुसार, आज भी लिव इन रिलेशनशिप को गलत माना जाता है परंतु, फिर भी युवाओं में इस रिश्ते को लेकर हिचकिचाहट बिल्कुल खत्म हो रही है।

लेकिन क्यों बढ़ रहा है, इसका क्रेज और क्या है लिव इन रिलेशनशिप के फायदे, आइए जानते हैं विस्तार से।

लिव इन रिलेशनशिप के खास फायदे

अच्छा समय व्यतीत करने का मौका

जब भी कोई लड़का या लड़की एक दूसरे से प्यार करते हैं। तो उन्हें अक्सर एक दूसरे के साथ समय व्यतीत करने का मौका नहीं मिल पाता। इसके अलावा, कई बार लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में मिलने के लिए काफी सफर करना पड़ता है, वही लिव इन रिलेशनशिप में, दोनों एक साथ रहकर जिंदगी बिता सकते हैं। जिससे उन्हें एक दूसरे के साथ समय बिताने तथा समझने का मौका मिलता है। इससे पैसे तथा आने जाने में लगने वाले समय की भी बचत होती है।

भविष्य का अंदाजा

एक दूसरे के साथ कम समय बिता पाने की वजह से, यदि कोई शादी करने का फैसला लेता है। तो जिंदगी में आगे जाकर, उन्हें बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ जाता है। परंतु वही लिव इन रिलेशनशिप में, एक दूसरे के साथ  रहने से, आने वाले भविष्य का आभास हो जाता है। जिसके आधार पर कपल अपने शादी करने के फैसले के बारे में सोच पाते हैं। इससे आपको पता चल जाएगा कि आपकी शादीशुदा जिंदगी कैसे होगी।

जिम्मेदारियों का आभास

लिव इन रिलेशनशिप में, अकेले ही लड़के और लड़की को सारी जिम्मेदारियां लेनी होती है। एक दूसरे की देखभाल तथा आर्थिक स्थिति का जिम्मा भी उन्हें खुद ही उठाना होता है। जिससे उनमें जिम्मेदारी की भावना विकसित होती है तथा भविष्य में आने वाली समस्याओं के लिए खुद को तैयार रखते हैं।अन्य रिश्तों की तरह पारिवारिक सदस्यों की दखलअंदाजी तो बिल्कुल नहीं होती है।

जिससे आपसी झगड़े तथा नोकझोंक को भी, खुद ही सुलझाने की समझदारी आ जाती है। कुल मिलाकर कहा जाए तो लिव इन रिलेशनशिप में समझदारी और जिम्मेदारी का कॉन्बिनेशन है।

रिश्ते में मजबूती और भरोसा

शादी से पहले ही एक साथ समय बिताने के कारण रिश्ते में नजदीकियां बढ़ जाती है। इन्हीं नजदीकियों के आधार पर ही, दोनों में आपसी विश्वास भी परिपक्व हो जाता है। जिस वजह से रिश्ते में स्थिरता उत्पन्न होने लगती है जो शादी के बंधन तक पहुंचने के लिए अनिवार्य है।

इसके साथ ही, लिव इन रिलेशनशिप में हर समय ब्रेकअप की चिंता नहीं होती है। यदि किसी वजह से दोनों अलग होना चाहते हैं, तो उनमें आपसी सहमति जरूरी है। इसलिए इस रिश्ते में आजादी भी रहती है कि आप जब चाहे अलग हो सकते हैं।

आजकल के टूटते हुए रिश्तो को देख कर तो लिव इन रिलेशनशिप जरूरी भी लगता है। अक्सर रिश्तों में सामंजस्य न बैठने की वजह से ही बिखराव होता है। इसलिए लिव इन रिलेशनशिप में एक दूसरे के साथ समय बिता कर, भविष्य का फैसला लिया जा सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.