इतिहासधार्मिकवास्तुशास्त्र

तरक्की और धन-समृद्धि के लिए वास्तुशास्त्र का महत्व

धन-समृद्धि के लिए वास्तुशास्त्र का बहुत बड़ा योगदान है, “धन को आपकी तरफ आकर्षित करने के लिए,

घर में सकारात्मक ऊर्जा का आना जरूरी है। धन हमारे जीवन में सबसे महत्वपूर्ण वस्तु में से एक है। 

वास्तु शास्त्र के अनुसार,अग्नि, जल, पृथ्वी, वायु और अंतरिक्ष ये पंचतत्व ब्रह्मांडीय ऊर्जाओं का एक संयोजन हैं। 

अगर इनमें से कोई एक भी तत्व संतुलित नहीं है तो ऐसे घर में बहुत सारी नकारात्मकता आकर्षित होती है। 

आप वास्तु शास्त्र के कुछ सिद्धांत दिशानिर्देशों का पालन करके घर पर अपने जीवन स्तर,

वित्तीय स्थिरता, शांति और समृद्धि को बहुत ज्यादा बढ़ा सकते हैं। इसके लिये कुछ टिप्स

तरक्की और धन-समृद्धि के लिए वास्तु टिप्स

घर के उत्तर-पूर्व दिशा में कुबेर यंत्र लगाए

प्रत्यक्ष भगवान कुबेर धन-समृद्धि के देवता हैं और सोने का प्रतिनिधित्व करते हैं। 

उत्तर-पूर्व दिशा भगवान कुबेर द्वारा शासित होती है, रिक्त स्थान जो नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न

करते हैं जैसे शौचालय, जूते के रैक और किसी भी भारी फर्नीचर आइटम को इस दिशा से तुरंत हटा दिया

जाना चाहिए। उत्तर-पूर्व कोने को गंदगी से मुक्त रखें । पूरे घर के उत्तरी हिस्से की उत्तरी दीवार पर

दर्पण या कुबेर यंत्र लगाएंगे तो इससे सकारात्मक परिणाम दिखना शुरू हो जाएगा।

ये भी पढ़ें : धन, समृद्धि और खुशी के लिए टॉप 10 वास्तु टिप्स

दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र में लॉकर – तिजोरियां

वास्तुशास्त्र के अनुसार, धन घर के पृथ्वी के कोने-दक्षिण-पश्चिम में रखने से बढ़ता है । अपने सभी आभूषण,

धन और महत्वपूर्ण वित्तीय दस्तावेज दक्षिण-पश्चिम में (ऐसी चीजों को अलमारी या तिजोरी में स्टोर करें),

उत्तर या उत्तर-पूर्व की ओर रखें। इस दिशा में रखी गई कोई भी चीज कई गुना बढ़ जाती है। 

ध्यान दें कि यदि तिजोरियां दक्षिण या पश्चिम दिशा की ओर हैं, तो इसके परिणामस्वरूप भारी खर्च होगा। 

मुख्य तिजोरी/लॉकर को इस प्रकार रखकर कि उसका दरवाजा उत्तर या उत्तर-पूर्व दिशा की ओर खुल जाए,

ऐसा करके आर्थिक समस्याओं और भारी खर्चों से बचा जा सकता है। अधिक वित्तीय सफलता को आकर्षित

करने के लिए सिट्रीन क्रिस्टल के साथ तिजोरी के अंदर एक लाल कपड़ा रखें।

अपने घर को साफ सुथरा रखे

अपने घर को साफ, स्वच्छ और अव्यवस्था और अनावश्यक घरेलू सामान और सजावट से मुक्त रखें। 

इसे सरल और बनाए रखने में आसान रखें। घर से बहने वाली ऊर्जा इस बात के लिए जिम्मेदार है

कि आप अपने रिश्तों, स्वास्थ्य और वित्त को कैसे संभालते हैं, इसलिए सुनिश्चित करें कि आपके रहने वाले कमरे

अव्यवस्था मुक्त हो। इसके अलावा, अपनी खिड़कियों और दरवाजों को साफ रखें, और हर कमरे में

अपने भंडारण स्थान को साफ-सुथरा रखें।

अपने मुख्य दरवाजों को मरम्मत-मुक्त रखें

वास्तु शास्त्र के अनुसार, आपके घर का प्रवेश द्वार मुख्य विशेषताओं में से एक है जिसे आप बढ़ा

सकते हैं। यह वह स्थान है जो सकारात्मक ऊर्जा, धन और समृद्धि को आकर्षित और स्वागत करता है

और इसलिए, आपका दरवाजा आकर्षक रूप से बनाया जाना चाहिए। सुनिश्चित करें कि मुख्य

दरवाजे में कोई दरार या दोष नहीं है और ताले अच्छे तरीके से काम करते हैं। इसके अलावा,

अपने घर के प्रवेश द्वार पर पौधे, विंड चाइम्स और स्पष्ट रूप से पढ़ने योग्य साइनबोर्ड (नाम प्लेट) लगाएं।

उत्तर-पूर्व में पानी रखे

घर के उत्तर-पूर्व भाग में पानी की छोटी-छोटी वस्तुएँ रखने से धन और सकारात्मक ऊर्जा प्रवाह के

माध्यम से अच्छी गति प्राप्त हो सकती है। एक्वेरियम या एक छोटा पानी का फव्वारा बहुत शुभ माना जाता है। 

यह ध्यान रखना चाहिए कि पानी वहाँ ठहरे नहीं और गंदा न हो जाए; इसे अक्सर साफ करना चाहिए,

क्योंकि वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में रुका हुआ पानी वित्तीय विकास में बाधा उत्पन्न कर सकता है।

ये भी पढे : झाड़ू का सही प्रयोग करता है मां लक्ष्मी को प्रसन्न। होता है धन का लाभ

पानी के रिसाव को तुरंत दूर करो

वास्तु शास्त्र के अनुसार, रसोई, स्नानघर में पानी का रिसाव धन के लीक होने का प्रतीक है और

वित्तीय नुकसान का प्रतीक है। इसका विशेष रूप से मानसून के दौरान ध्यान रखें । दीवारों या घर

के भीतर टूटी पाइप लाइन से पानी के किसी भी रिसाव को तुरंत ठीक किया जाना चाहिए क्योंकि

इससे बहुत बड़ा आर्थिक नुकसान हो सकता है।

दक्षिण-पश्चिम कोने में शौचालय ना हो

यदि शौचालय और स्नानघर का निर्माण और वास्तु शास्त्र के मानदंडों के अनुसार नहीं किया जाता है,

तो इससे न केवल वित्तीय नुकसान ,स्वास्थ्य में गिरावट और नींद के पैटर्न में भी गड़बड़ी हो सकती है। 

जहां तक ​​संभव हो शौचालय और स्नानघर का निर्माण अलग-अलग किया जाना चाहिए और घर के

उत्तर-पश्चिम या उत्तर-पूर्व की ओर रखा जाना चाहिए। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.