5 टिप्सअनैतिककैसे करें?गुप्त रहस्यजीवन शैलीतलाकनिजी सीक्रेटपति पत्नीलाईफ स्टाइलशादी विवाह

क्यों बोरिंग होती है मैरिड लाइफ?

शादी के कुछ साल बाद ये पाया गया है की ज़्यादातर शादीशुदा जोड़ों को अपने रिश्ते में नयापन और एक्साइटमेंट की कमी महसूस होने लगती है. इससे आपसी रिश्ता नीरस हो जाता है, कभी-कभी लोग एक-दूसरे को धोखा भी दे देते हैं। शादी में बोरियत होने का मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि अलग होने या तलाक़ पर विचार करने का समय आ गया है। शादी के 1-2 साल बाद रिश्ता नीरस हो जाता है, कभी-कभी लोग एक-दूसरे को धोखा भी दे देते हैं। कब बोरिंग होती है मैरिड लाइफ? कैसे सुधारे रिश्ता?

हालांकि, अगर सोचसमझकर संबंध सुधारने का प्रयास नहीं किया, तो स्वस्थ संबंध बनाए रखना मुश्किल हो सकता है। शादीशुदा जीवन, प्यार, खुशी और साथ का प्रतीक होता है। लेकिन कई बार यह जीवन एकरसता और बोरियत का शिकार भी हो जाता है। आइए जानते हैं क्यों बोरिंग होती है मैरिड लाइफ? कुछ ऐसे कारण जिनसे मैरिड लाइफ बोरिंग हो सकती है:

क्यों बोरिंग होती है मैरिड लाइफ?

1. एकरसता:

  • जब रोज़मर्रा की ज़िंदगी एक जैसी हो जाए, तो जीवन में रोमांच और उत्साह कम हो जाता है।
  • काम, घर और बच्चों की जिम्मेदारियों में उलझे रहने से पति-पत्नी के पास एक-दूसरे के लिए समय नहीं बचता।

2. संवाद की कमी:

  • जब पति-पत्नी के बीच संवाद कम हो जाता है, तो गलतफहमियां और मनमुटाव बढ़ने लगते हैं।
  • एक-दूसरे की भावनाओं और ज़रूरतों को समझने में कमी आ जाती है।

3. रोमांस की कमी:

  • जब जीवन में रोमांस की कमी हो जाए, तो शादीशुदा जीवन एकरस और नीरस लगने लगता है।
  • पति-पत्नी के बीच शारीरिक और भावनात्मक близость कम हो जाती है।

4. अपेक्षाओं का बोझ:

  • जब पति-पत्नी एक-दूसरे से बहुत अधिक अपेक्षाएं रखते हैं, तो वे निराश होते हैं।
  • जब अपेक्षाएं पूरी नहीं होतीं, तो रिश्ते में तनाव और झगड़े बढ़ने लगते हैं।

5. व्यक्तिगत विकास में कमी:

  • जब पति-पत्नी अपने व्यक्तिगत विकास पर ध्यान नहीं देते, तो वे एक-दूसरे के लिए बोरिंग हो सकते हैं।
  • जब वे अपनी रुचियां और शौक नहीं रखते, तो वे एक-दूसरे को कुछ नया नहीं दे पाते।

6. बाहरी प्रभाव:

  • काम, परिवार या दोस्तों से जुड़ी समस्याएं भी शादीशुदा जीवन को प्रभावित कर सकती हैं।
  • जब पति-पत्नी इन समस्याओं को अपने रिश्ते में लाते हैं, तो यह बोरिंग हो सकता है।

उदाहरण:

  1. रोज़मर्रा की ज़िंदगी में उलझे रहने के कारण रीमा और रवि के पास एक-दूसरे के लिए समय नहीं बचता।
  2. वे एक-दूसरे से बातचीत नहीं करते और उनकी भावनाओं में दूरी आ जाती है।
  3. रीमा को लगता है कि रवि अब उससे प्यार नहीं करता और रवि को लगता है कि रीमा हमेशा उससे नाराज़ रहती है।
  4. धीरे-धीरे उनका शादीशुदा जीवन एकरस और बोरिंग हो जाता है।

Next ad

Related Articles

Back to top button