आधुनिकलाईफ स्टाइलशादी विवाहसंबंध

सांवली लड़की देख शादी से इंकार क्यों कर देते हैं?

किसी लड़का या लड़की को उसके काले रंग के कारण शादी के लिए इंकार कर देना क्या उचित है?

इतिहास गवाह है कि हमारे समाज में शुरू से ही काले रंग के लोगों को एक हीन दृष्टि से देखा जाता है। आज भी लोग शिक्षित होने के बावजूद, आजादी के इतने वर्षों के बाद भी काले रंग से नफरत करते हैं। खासकर बाद जब शादी की आती है। शादी एक ऐसा बंधन होता है जो दो व्यक्तियों के बीच में 7 जन्मों के लिए होता है। काली या सांवली लड़की देख शादी से इंकार क्यों कर देते हैं,

हर किसी को अपनी इच्छा अनुसार लड़की या लड़का चुनने का पूर्ण अधिकार है। लेकिन चुनने के दौरान किसी को भी किसी के रंग के आधार पर रिजेक्ट कर देना उचित नहीं है। ऐसा करने वाले लोग मनुष्य कहलाने के लायक नहीं होते हैं। किसी को भी उसके रंग के कारण शादी के लिए मना कर देना उचित नहीं है। क्यों? इसी बात का खुलासा आज हम अपने ब्लॉग पर करेंगे।

शादी के लिए व्यक्ति मायने रखना चाहिए ना कि उसका रंग

हर किसी को अच्छी चीजें ही अच्छी लगती हैं। लेकिन आप में से कभी भी किसी ने कोयले की खान से सोना निकलते हुए देखा है। शायद नहीं क्योंकि यह बात सभी को पता है कि कोयले की खान से केवल हीरा ही निकलता है।

कोयले की खान से हीरा निकलता है। इसलिए वह बहुत ज्यादा महंगा होता है। ठीक वैसे ही किसी को भी किसी के रंग के आधार पर परखना उचित नहीं है। क्या पता कि काले रंग का व्यक्ति सुंदर दिखने वाले व्यक्ति से बहुत ज्यादा अच्छा निकले। जरूरी नहीं कि हर सुंदर चीज हीरे जैसे ही हो। जब शादी की बात आए तो रंग काला हो या गोरा यह मत देखिए। बस यह देखें कि व्यक्ति में गुण कितना है क्योंकि व्यक्ति की पहचान उनके गुण से होती है उनके रूप से नहीं।

अपनी सोच को बदलिए

इस दुनिया में हम सभी को भगवान ने भेजा है। जब वह लोगों में फर्क नहीं करते। तो हम कौन होते हैं, लोगों में फर्क करने वाले।

काले रंग को देखकर अक्सर वही लोग अपना नाक सिकुड़ते हैं। जो लोग बहुत ज्यादा शिक्षित होते हैं और जिनके अंदर घमंड कूट-कूट कर भरा होता है। जरूरत है, ऐसे लोगों में नए सोच की क्योंकि व्यक्ति सोच से महान होता है। गुण से महान होता है। उसके रंग से नहीं यह बात सभी को अपने दिमाग में रखनी चाहिए।

सब को सम्मान की नजर से देखें तो आपको सब कुछ अच्छा लगेगा

हम इंसानों के अंदर एक खूबी बहुत अच्छी होती है। वह है कि हम जैसे होते हैं। हम अपने आसपास के लोगों को भी वैसा ही समझते हैं।

यदि आप अच्छे हैं। तो आप अपने आसपास के सभी लोगों को अच्छा ही समझेंगे। यदि आप में थोड़ी सी भी बुराई है। तो आप सभी लोगों को गलत ही समझेंगे।

जो लोग सभी को एक बराबर समझते हैं। वह कभी भी उसके रंग के आधार पर उसका आकलन नहीं करते हैं। जो लोग खुद को ऊंचा और दूसरे को नीचा समझते हैं वही लोग ज्यादा रंगभेद जातिभेद जैसे कार्य करते हैं।

सांवली लड़की देख शादी से इंकार क्यों कर देते हैं?

बात को स्पष्ट करने के लिए एक कहानी बताते हैं। जिसमें एक कुम्हार मिट्टी को रौंदते हुए। मिट्टी के बर्तन बनाता है और मिट्टी पर बहुत हंसता है।

तब मिट्टी उससे कहती है कि मुझ पर क्या हंस रहा है 1 दिन तू भी मर कर मिट्टी में मिल जाएगा और उस दिन मैं तुम पर हसूंगी।

कहने का तात्पर्य है कि आज आप जिसे काले रंग को देखकर नकार रहे हैं। कल वही व्यक्ति अपने गुण के कारण इतना महान हो जाएगा। कल आप उस काले रंग के व्यक्ति से अच्छा व्यवहार करने पर मजबूर हो जाएंगे। इसलिए समय रहते खुद को सुधारिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.